कुरान हाकिम (हिंदी अनुवाद)

Surah Hud

Previous         Index         Next

 

1.

अलिफ़ लाम रा

ये (क़ुरान) वह किताब है जिसकी आयतें (दलाएल से) खूब मुस्तहकिम (मज़बूत)  हैं

और  एक वाकिफ़कार हकीम की तरफ से  तफ़सीलदार बयान कर दी गयी हैं

2.

ये कि ख़ुदा के सिवा किसी की परसतिश न करो

मै तो उसकी तरफ से तुम्हें (अज़ाब से) डराने वाला और (बेहिश्त की) ख़ुशख़बरी देने वाला (रसूल) हूँ

3.

और ये भी कि अपने परवरदिगार से मग़फिरत की दुआ मॉगों फिर उसकी बारगाह में (गुनाहों से) तौबा करो

वही तुम्हें एक मुकर्रर मुद्दत तक अच्छे नुत्फ के फायदे उठाने देगा

और वही हर साहबे बुर्ज़गी को उसकी बुर्जुगी (की दाद) अता फरमाएगा

और अगर तुमने (उसके हुक्म से) मुँह मोड़ा तो मुझे तुम्हारे बारे में एक बड़े (ख़ौफनाक) दिन के अज़ाब का डर है

4.

(याद रखो) तुम सब को (आख़िरकार) ख़ुदा ही की तरफ लौटना है

और वह हर चीज़ पर (अच्छी तरह) क़ादिर है

5.

( रसूल) देखो ये कुफ्फ़ार (तुम्हारी अदावत में) अपने सीनों को (गोया) दोहरा किए डालते हैं ताकि ख़ुदा से (अपनी बातों को) छिपाए रहें

(मगर) देखो जब ये लोग अपने कपड़े ख़ूब लपेटते हैं (तब भी तो) ख़ुदा (उनकी बातों को) जानता है जो छिपाकर करते हैं और खुल्लम खुल्ला करते हैं

इसमें शक़ नहीं कि वह सीनों के भेद तक को खूब जानता है

6.

और ज़मीन पर चलने वालों में कोई ऐसा नहीं जिसकी रोज़ी ख़ुदा के ज़िम्मे न हो

और ख़ुदा उनके ठिकाने और (मरने के बाद) उनके सौपे जाने की जगह (क़ब्र) को भी जानता है

सब कुछ रौशन किताब (लौहे महफूज़) में मौजूद है

7.

और वह तो वही (क़ादिरे मुत्तलिक़) है जिसने आसमानों और ज़मीन को 6 दिन में पैदा किया

और (उस वक्त) उसका अर्श (फलक नहुम) पानी पर था

(उसने आसमान व ज़मीन) इस ग़रज़ से बनाया ताकि तुम लोगों को आज़माए कि तुममे ज्यादा अच्छी कार गुज़ारी वाला कौन है

और (ऐ रसूल) अगर तुम (उनसे) कहोगे कि मरने के बाद तुम सबके सब दोबारा (क़ब्रों से) उठाए जाओगे तो काफ़िर लोग ज़रुर कह बैठेगें कि ये तो बस खुला हुआ जादू है

8.

और अगर हम गिनती के चन्द रोज़ो तक उन पर अज़ाब करने में देर भी करें तो ये लोग (अपनी शरारत से) बेताम्मुल ज़रुर कहने लगेगें कि (हाए) अज़ाब को कौन सी चीज़ रोक रही है

सुन रखो जिस दिन इन पर अज़ाब आ पडे तो (फिर) उनके टाले न टलेगा

और जिस (अज़ाब) की ये लोग हँसी उड़ाया करते थे वह उनको हर तरह से घेर लेगा

9.

और अगर हम इन्सान को अपनी रहमत का मज़ा चखाएं फिर उसको हम उससे छीन लें तो (उस वक्त) यक़ीनन बड़ा बेआस और नाशुक्रा हो जाता है

(और हमारी शिकायत करने लगता है)

10.

और अगर हम तकलीफ के बाद जो उसे पहुँचती थी राहत व आराम का जाएक़ा चखाए तो ज़रुर कहने लगता है कि अब तो सब सख्तियाँ मुझसे दफा हो गई

इसमें शक़ नहीं कि वह बड़ा (जल्दी खुश) होने येख़ी बाज़ है

11.

मगर जिन लोगों ने सब्र किया और अच्छे (अच्छे) काम किए (वह ऐसे नहीं) ये वह लोग हैं जिनके वास्ते (ख़ुदा की) बख़्शिस और बहुत बड़ी (खरी) मज़दूरी है

12.

तो जो चीज़ तुम्हारे पास 'वही' के ज़रिए से भेजी है उनमें से बाज़ को (सुनाने के वक्त) यायद तुम फक़त इस ख्याल से छोड़ देने वाले हो

और तुम तंग दिल हो कि मुबादा ये लोग कह बैंठें कि उन पर खज़ाना क्यों नहीं नाज़िल किया गया

या (उनके तसदीक के लिए) उनके साथ कोई फरिश्ता क्यों न आया

तो तुम सिर्फ (अज़ाब से) डराने वाले हो

(तुम्हें उनका ख्याल न करना चाहिए)

और ख़ुदा हर चीज़ का ज़िम्मेदार है

13.

क्या ये लोग कहते हैं कि उस शख़्श (तुम) ने इस (क़ुरान) को अपनी तरफ से गढ़ लिया है

तो तुम (उनसे साफ साफ) कह दो कि अगर तुम (अपने दावे में) सच्चे हो तो (ज्यादा नहीं) ऐसे दस सूरे अपनी तरफ से गढ़ के ले आओं और ख़ुदा के सिवा जिस जिस के तुम्हे बुलाते बन पड़े मदद के वास्ते बुला लो

14.

उस पर अगर वह तुम्हारी न सुने तो समझ ले कि (ये क़ुरान) सिर्फ ख़ुदा के इल्म से नाज़िल किया गया है

और ये कि ख़ुदा के सिवा कोई माबूद नहीं

तो क्या तुम अब भी इस्लाम लाओगे (या नहीं)

15.

नेकी करने वालों में से जो शख़्श दुनिया की ज़िन्दगी और उसके रिज़क़ का तालिब हो तो हम उन्हें उनकी कारगुज़ारियों का बदला दुनिया ही में पूरा पूरा भर देते हैं

और ये लोग दुनिया में घाटे में नहीं रहेगें

16.

मगर (हाँ) ये वह लोग हैं जिनके लिए आख़िरत में (जहन्नुम की) आग के सिवा कुछ नहीं

और जो कुछ दुनिया में उन लोगों ने किया धरा था सब अकारत (बर्बाद) हो गया और जो कुछ ये लोग करते थे सब मिटियामेट हो गया

17.

तो क्या जो शख़्श अपने परवरदिगार की तरफ से रौशन दलील पर हो

और उसके पीछे ही पीछे उनका एक गवाह हो

और उसके क़बल मूसा की किताब (तौरैत) जो (लोगों के लिए) पेशवा और रहमत थी

(उसकी तसदीक़ करती हो वह बेहतर है या कोई दूसरा)

यही लोग सच्चे ईमान लाने वाले

और तमाम फिरक़ों में से जो शख़्श भी उसका इन्कार करे तो उसका ठिकाना बस आतिश (जहन्नुम) है

तो फिर तुम कहीं उसकी तरफ से शक़ में न पड़े रहना,

बेशक ये क़ुरान तुम्हारे परवरदिगार की तरफ़ से बरहक़ है मगर बहुतेरे लोग ईमान नही लाते

18.

और ये जो शख़्श ख़ुदा पर झूठ मूठ बोहतान बॉधे उससे ज्यादा ज़ालिम कौन होगा

ऐसे लोग अपने परवरदिगार के हुज़ूर में पेश किए जाएंगें

और गवाह इज़हार करेगें कि यही वह लोग हैं जिन्होंने अपने परवरदिगार पर झूट (बोहतान) बाँधा था

सुन रखो कि ज़ालिमों पर ख़ुदा की फिटकार है

19.

जो ख़ुदा के रास्ते से लोगों को रोकते हैं और उसमें कज़ी (टेढ़ा पन) निकालना चाहते हैं

और यही लोग आख़िरत के भी मुन्किर है

20.

ये लोग रुए ज़मीन में न ख़ुदा को हरा सकते है

और न ख़ुदा के सिवा उनका कोई सरपरस्त होगा

उनका अज़ाब दूना कर दिया जाएगा

ये लोग (हसद के मारे) न तो (हक़ बात) सुन सकते थे न देख सकते थे

21.

ये वह लोग हैं जिन्होंने कुछ अपना ही घाटा किया और जो इफ्तेरा परदाज़ियाँ (झूठी बातें) ये लोग करते थे (क़यामत में सब) उन्हें छोड़ के चल होगी

22.

इसमें शक़ नहीं कि यही लोग आख़िरत में बड़े घाटा उठाने वाले होगें

23.

बेशक जिन लोगों ने ईमान क़ुबूल किया और अच्छे अच्छे काम किए और अपने परवरदिगार के सामने आजज़ी से झुके

यही लोग जन्नती हैं कि ये बेहश्त में हमेशा रहेगें

24.

(काफिर, मुसलमान) दोनों फरीक़ की मसल अन्धे और बहरे और देखने वाले और सुनने वाले की सी है

क्या ये दोनो मसल में बराबर हो सकते हैं

तो क्या तुम लोग ग़ौर नहीं करते

25.

और हमने नूह को ज़रुर उन की क़ौम के पास भेजा (और उन्होने अपनी क़ौम से कहा कि) मैं तो तुम्हारा (अज़ाबे ख़ुदा से) सरीही धमकाने वाला हूँ

26.

(और) ये (समझता हूँ) कि तुम ख़ुदा के सिवा किसी की परसतिश न करो

मैं तुम पर एक दर्दनाक दिन (क़यामत) के अज़ाब से डराता हूँ

27.

तो उनके सरदार जो काफ़िर थे कहने लगे कि हम तो तुम्हें अपना ही सा एक आदमी समझते हैं

और हम तो देखते हैं कि तुम्हारे पैरोकार हुए भी हैं तो बस सिर्फ हमारे चन्द रज़ील (नीच) लोग

और वह भी (बे सोचे समझे) सरसरी नज़र में

और हम तो अपने ऊपर तुम लोगों की कोई फज़ीलत नहीं देखते

बल्कि तुम को झूठा समझते हैं

28.

(नूह ने) कहा ऐ मेरी क़ौम क्या तुमने ये समझा है कि अगर मैं अपने परवरदिगार की तरफ से एक रौशन दलील पर हूँ

और उसने अपनी सरकार से रहमत (नुबूवत) अता फरमाई और वह तुम्हें सुझाई नहीं देती

तो क्या मैं उसको (ज़बरदस्ती) तुम्हारे गले मंढ़ सकता हूँ

और तुम हो कि उसको नापसन्द किए जाते हो

29.

और ऐ मेरी क़ौम मैं तो तुमसे इसके सिले में कुछ माल का तालिब नहीं

मेरी मज़दूरी तो सिर्फ ख़ुदा के ज़िम्मे है

और मै तो तुम्हारे कहने से उन लोगों को जो ईमान ला चुके हैं निकाल नहीं सकता

(क्योंकि) ये लोग भी ज़रुर अपने परवरदिगार के हुज़ूर में हाज़िर होगें

मगर मै तो देखता हूँ कि कुछ तुम ही लोग (नाहक़) जिहालत करते हो

30.

और मेरी क़ौम अगर मै इन (बेचारे ग़रीब ईमानदारों) को निकाल दूँ तो ख़ुदा (के अज़ाब) से (बचाने में) मेरी मदद कौन करेगा

तो क्या तुम इतना भी ग़ौर नहीं करते

31.

और मै तो तुमसे ये नहीं कहता कि मेरे पास खुदाई ख़ज़ाने हैं

और न (ये कहता हूँ कि) मै ग़ैब वॉ हूँ (गैब का जानने वाला)

और ये कहता हूँ कि मै फरिश्ता हूँ

और जो लोग तुम्हारी नज़रों में ज़लील हैं उन्हें मै ये नहीं कहता कि ख़ुदा उनके साथ हरगिज़ भलाई नहीं करेगा

उन लोगों के दिलों की बात ख़ुदा ही खूब जानता है

और अगर मै ऐसा कहूँ तो मै भी यक़ीनन ज़ालिम हूँ

32.

वह लोग कहने लगे ऐ नूह तुम हम से यक़ीनन झगड़े और बहुत झगड़े

फिर तुम सच्चे हो तो जिस (अज़ाब) की तुम हमें धमकी देते थे हम पर ला चुको

33.

नूह ने कहा अगर चाहेगा तो बस ख़ुदा ही तुम पर अज़ाब लाएगा और तुम लोग किसी तरह उसे हरा नहीं सकते

और अगर मै चाहूँ तो तुम्हारी (कितनी ही) ख़ैर ख्वाही (भलाई) करुँ

34.

अगर ख़ुदा को तुम्हारा बहकाना मंज़ूर है तो मेरी ख़ैर ख्वाही कुछ भी तुम्हारे काम नहीं आ सकती

वही तुम्हारा परवरदिगार है

और उसी की तरफ तुम को लौट जाना है

35.

( रसूल) क्या (कुफ्फ़ारे मक्का भी) कहते हैं कि क़ुरान को उस (तुम) ने गढ़ लिया है

तुम कह दो कि अगर मैने उसको गढ़ा है तो मेरे गुनाह का वबाल मुझ पर होगा

और तुम लोग जो (गुनाह करके) मुजरिम होते हो उससे मै बरीउल ज़िम्मा (अलग) हूँ  

36.

और नूह के पास ये 'वही' भेज दी गई कि जो ईमान ला चुका उनके सिवा अब कोई शख़्श तुम्हारी क़ौम से हरगिज़ ईमान न लाएगा

तो तुम ख्वाहमा ख्वाह उनकी कारस्तानियों का (कुछ) ग़म न खाओ

37.

और (बिस्मिल्लाह करके) हमारे रुबरु और हमारे हुक्म से कश्ती बना डालो

और जिन लोगों ने ज़ुल्म किया है उनके बारे में मुझसे सिफारिश न करना

क्योंकि ये लोग ज़रुर डुबा दिए जाएँगें

38.

और नूह कश्ती बनाने लगे

और जब कभी उनकी क़ौम के सरबर आवुरदा लोग उनके पास से गुज़रते थे तो उनसे मसख़रापन करते

नूह (जवाब में) कहते कि अगर इस वक्त तुम हमसे मसखरापन करते हो तो जिस तरह तुम हम पर हँसते हो हम तुम पर एक वक्त हँसेगें

39.

और तुम्हें अनक़रीब ही मालूम हो जाएगा कि किस पर अज़ाब नाज़िल होता है कि (दुनिया में) उसे रुसवा कर दे

और किस पर (क़यामत में) दाइमी अज़ाब नाज़िल होता है

40.

यहाँ तक कि जब हमारा हुक्म (अज़ाब) आ पहुँचा और तन्नूर से जोश मारने लगा

तो हमने हुक्म दिया (ऐ नूह) हर किस्म के जानदारों में से (नर मादा का) जोड़ा (यानि) दो दो ले लो

और जिस (की) हलाकत (तबाही) का हुक्म पहले ही हो चुका हो उसके सिवा अपने सब घर वाले और जो लोग ईमान ला चुके उन सबको कश्ती (नाँव) में बैठा लो

और उनके साथ ईमान भी थोड़े ही लोग लाए थे

41.

और नूह ने (अपने साथियों से) कहा बिस्मिल्ला मज़रीहा मुरसाहा (ख़ुदा ही के नाम से उसका बहाओ और ठहराओ है) कश्ती में सवार हो जाओ

बेशक मेरा परवरदिगार बड़ा बख्शने वाला मेहरबान है

42.

और कश्ती है कि पहाड़ों की सी (ऊँची) लहरों में उन लोगों को लिए हुए चली जा रही है

और नूह ने अपने बेटे को जो उनसे अलग थलग एक गोशे (कोने) में था आवाज़ दी ऐ मेरे फरज़न्द हमारी कश्ती में सवार हो लो और काफिरों के साथ न रह

43.

(मुझे माफ कीजिए) मै तो अभी किसी पहाड़ का सहारा पकड़ता हूँ जो मुझे पानी (में डूबने) से बचा लेगा

नूह ने (उससे) कहा (अरे कम्बख्त) आज ख़ुदा के अज़ाब से कोई बचाने वाला नहीं मगर ख़ुदा ही जिस पर रहम फरमाएगा

और (ये बात हो रही थी कि) यकायक दोनो बाप बेटे के दरमियान एक मौज हाएल हो गई और वह डूब कर रह गया

44.

और (ग़ैब ख़ुदा की तरफ से) हुक्म दिया गया कि ऐ ज़मीन अपना पानी जज्ब (शोख) करे और ऐ आसमान (बरसने से) थम जा

और पानी घट गया और (लोगों का) काम तमाम कर दिया गया

और कश्ती जो वही (पहाड़) पर जा ठहरी

और (चारो तरफ) पुकार दिया गया कि ज़ालिम लोगों को (ख़ुदा की रहमत से) दूरी हो

45.

(और जिस वक्त नूह का बेटा ग़रक डूब हो रहा था तो)

नूह ने अपने परवरदिगार को पुकारा और अर्ज़ की ऐ मेरे परवरदिगार इसमें तो शक़ नहीं कि मेरा बेटा मेरे अहल (घर वालों) में शामिल है

(और तूने वायदा किया था कि तेरे अहल को बचा लूँगा)

और इसमें शक़ नहीं कि तेरा वायदा सच्चा है और तू सारे (जहान) के हाकिमों से बड़ा हाकिम है

(तू मेरे बेटे को नजात दे)

46.

ख़ुदा ने फरमाया ऐ नूह तुम (ये क्या कह रहे हो) हरगिज़ वह तुम्हारे अहल में शामिल नहीं

वह बेशक बदचलन है

देखो जिसका तुम्हें इल्म नहीं है मुझसे उसके बारे में दरख्वास्त न किया करो

और नादानों की सी बातें न करो

47.

नूह ने अर्ज़ की ऐ मेरे परवरदिगार मै तुझ ही से पनाह मागँता हूँ कि जिस चीज़ का मुझे इल्म न हो मै उसकी दरख्वास्त करुँ

और अगर तु मुझे मेरे कसूर न बख्श देगा और मुझ पर रहम न खाएगा तो मैं सख्त घाटा उठाने वालों में हो जाऊँगा

48.

(जब तूफान जाता रहा तो) हुक्म दिया गया ऐ नूह हमारी तरफ से सलामती और उन बरकतों के साथ कश्ती से उतरो जो तुम पर हैं और जो लोग तुम्हारे साथ हैं उनमें से न कुछ लोगों पर

और (तुम्हारे बाद) कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें हम थोड़े ही दिन बाद बहरावर करेगें फिर हमारी तरफ से उनको दर्दनाक अज़ाब पहुँचेगा

49.

( रसूल) ये ग़ैब की चन्द ख़बरे हैं जिनको तुम्हारी तरफ वही के ज़रिए पहुँचाते हैं

जो उसके क़ब्ल न तुम जानते थे और न तुम्हारी क़ौम ही (जानती थी)

तो तुम सब्र करो

इसमें शक़ नहीं कि आख़िारत (की खूबियाँ) परहेज़गारों ही के वास्ते हैं

50.

और (हमने) क़ौमे आद के पास उनके भाई हूद को (पैग़म्बर बनाकर भेजा)

उन्होनें अपनी क़ौम से कहा ऐ मेरी क़ौम ख़ुदा ही की परसतिश करों उसके सिवा कोई तुम्हारा माबूद नहीं

तुम बस निरे इफ़तेरा परदाज़ (झूठी बात बनाने वाले) हो

51.

मेरी क़ौम मै उस (समझाने) पर तुमसे कुछ मज़दूरी नहीं मॉगता

मेरी मज़दूरी तो बस उस शख़्श के ज़िम्मे है जिसने मुझे पैदा किया

तो क्या तुम (इतना भी) नहीं समझते

52.

और ऐ मेरी क़ौम अपने परवरदिगार से मग़फिरत की दुआ मॉगों फिर उसकी बारगाह में अपने (गुनाहों से) तौबा करो

तो वह तुम पर मूसलाधार मेह आसमान से बरसाएगा ख़ुश्क साली न होगी और तुम्हारी क़ूवत (ताक़त) में और क़ूवत बढ़ा देगा

और मुजरिम बन कर उससे मुँह न मोड़ों

53.

वह लोग कहने लगे ऐ हूद तुम हमारे पास कोई दलील लेकर तो आए नहीं

और तुम्हारे कहने से अपने ख़ुदाओं को तो छोड़ने वाले नहीं और न हम तुम पर ईमान लाने वाले हैं

54.

हम तो बस ये कहते हैं कि हमारे ख़ुदाओं में से किसने तुम्हें मजनून (दीवाना) बना दिया है

(इसी वजह से तुम बहकी बहकी बातें करते हो)

हूद ने जवाब दिया बेशक मै ख़ुदा को गवाह करता हूँ और तुम भी गवाह रहो कि तुम दूसरों को उसका शरीक बनाते हो इसमे मै बेज़ार हूँ

55.

ख़ुदा के सिवा

तो तुम सब के सब मेरे साथ मक्कारी करो और मुझे (दम मारने की) मोहलत भी न दो तो मुझे परवाह नहीं

56.

मै तो सिर्फ ख़ुदा पर भरोसा रखता हूँ जो मेरा भी परवरदिगार है और तुम्हारा भी परवरदिगार है

और रुए ज़मीन पर जितने चलने वाले हैं सबकी चोटी उसी के साथ है

इसमें तो शक़ ही नहीं कि मेरा परवरदिगार (इन्साफ की) सीधी राह पर है

57.

इस पर भी अगर तुम उसके हुक्म से मुँह फेरे रहो तो जो हुक्म दे कर मैं तुम्हारे पास भेजा गया था उसे तो मैं यक़ीनन पहुँचा चुका

और मेरा परवरदिगार (तुम्हारी नाफरमानी पर तुम्हें हलाक करें) तुम्हारे सिवा दूसरी क़ौम को तुम्हारा जानशीन करेगा

और तुम उसका कुछ भी बिगाड़ नहीं सकते

इसमें तो शक़ नहीं है कि मेरा परवरदिगार हर चीज़ का निगेहबान है

58.

और जब हमारा (अज़ाब का) हुक्म आ पहुँचा तो हमने हूद को और जो लोग उसके साथ ईमान लाए थे अपनी मेहरबानी से नजात दिया

और उन सबको सख्त अज़ाब से बचा लिया

59.

( रसूल) ये हालात क़ौमे आद के हैं

जिन्होंने अपने परवरदिगार की आयतों से इन्कार किया और उसके पैग़म्बरों की नाफ़रमानी की और हर सरकश (दुश्मने ख़ुदा) के हुक्म पर चलते रहें

60.

और इस दुनिया में भी लानत उनके पीछे लगा दी गई और क़यामत के दिन भी (लगी रहेगी)

देख क़ौमे आद ने अपने परवरदिगार का इन्कार किया

देखो हूद की क़ौमे आद (हमारी बारगाह से) धुत्कारी पड़ी है

61.

और (हमने) क़ौमे समूद के पास उनके भाई सालेह को (पैग़म्बर बनाकर भेजा)

तो उन्होंने (अपनी क़ौम से) कहा ऐ मेरी क़ौम ख़ुदा ही की परसतिश करो उसके सिवा कोई तुम्हारा माबूद नहीं

उसी ने तुमको ज़मीन (की मिट्टी) से पैदा किया और तुमको उसमें बसाया

तो उससे मग़फिरत की दुआ मॉगों फिर उसकी बारगाह में तौबा करो

बेशक मेरा परवरदिगार (हर शख़्श के) क़रीब और सबकी सुनता और दुआ क़ुबूल करता है

62.

वह लोग कहने लगे ऐ सालेह इसके पहले तो तुमसे हमारी उम्मीदें वाबस्ता थी

तो क्या अब तुम जिस चीज़ की परसतिश हमारे बाप दादा करते थे उसकी परसतिश से हमें रोकते हो

और जिस दीन की तरफ तुम हमें बुलाते हो हम तो उसकी निस्बत ऐसे शक़ में पड़े हैं

(कि उसने हैरत में डाल दिया है)

63.

सालेह ने जवाब दिया ऐ मेरी क़ौम भला देखो तो कि अगर मैं अपने परवरदिगार की तरफ से रौशन दलील पर हूँ

और उसने मुझे अपनी (बारगाह) मे रहमत (नबूवत) अता की है

इस पर भी अगर मै उसकी नाफ़रमानी करुँ तो ख़ुदा (के अज़ाब से बचाने में) मेरी मदद कौन करेगा-

फिर तुम सिवा नुक़सान के मेरा कुछ बढ़ा दोगे नहीं

64.

मेरी क़ौम ये ख़ुदा की (भेजी हुई) ऊँटनी है तुम्हारे वास्ते (मेरी नबूवत का) एक मौजिज़ा है

तो इसको (उसके हाल पर) छोड़ दो कि ख़ुदा की ज़मीन में (जहाँ चाहे) खाए

और उसे कोई तकलीफ न पहुँचाओ  (वरना) फिर तुम्हें फौरन ही (ख़ुदा का) अज़ाब ले डालेगा

65.

इस पर भी उन लोगों ने उसकी कूँचे काटकर (मार) डाला

तब सालेह ने कहा अच्छा तीन दिन तक (और) अपने अपने घर में चैन (उड़ा लो)

यही ख़ुदा का वायदा है जो कभी झूठा नहीं होता

66.

फिर जब हमारा (अज़ाब का) हुक्म आ पहुँचा तो हमने सालेह और उन लोगों को जो उसके साथ ईमान लाए थे अपनी मेहरबानी से नजात दी

और उस दिन की रुसवाई से बचा लिया

इसमें शक़ नहीं कि तेरा परवरदिगार ज़बरदस्त ग़ालिब है

67.

और जिन लोगों ने ज़ुल्म किया था उनको एक सख्त चिघाड़ ने ले डाला

तो वह लोग अपने अपने घरों में औंधें पड़े रह गये

68.

और ऐसे मर मिटे कि गोया उनमें कभी बसे ही न थे

तो देखो क़ौमे समूद ने अपने परवरदिगार की नाफरमानी की और (सज़ा दी गई)

सुन रखो कि क़ौमे समूद (उसकी बारगाह से) धुत्कारी हुई है

69.

और हमारे भेजे हुए (फरिश्ते) इबराहीम के पास खुशख़बरी लेकर आए और उन्होंने (इबराहीम को) सलाम किया

(इबराहीम ने) सलाम का जवाब दिया

फिर इबराहीम एक बछड़े का भुना हुआ (गोश्त) ले आए  

70.

(और साथ खाने बैठें) फिर जब देखा कि उनके हाथ उसकी तरफ नहीं बढ़ते तो उनकी तरफ से बदगुमान हुए और जी ही जी में डर गए

(उसको वह फरिश्ते समझे) और कहने लगे आप डरे नहीं हम तो क़ौम लूत की तरफ (उनकी सज़ा के लिए) भेजे गए हैं

71.

और इबराहीम की बीबी (सायरा) खड़ी हुई थी वह (ये ख़बर सुनकर) हॅस पड़ी

तो हमने (उन्हेंफ़रिश्तों के ज़रिए से) इसहाक़ के पैदा होने की खुशख़बरी दी और इसहाक़ के बाद याक़ूब की

72.

वह कहने लगी ऐ है क्या अब मै बच्चा जनने बैठूँ है

मैं तो बुढ़िया हूँ और ये मेरे मियॉ भी बूढे है

ये तो एक बड़ी ताज्जुब खेज़ बात है

73.

वह फरिश्ते बोले (हाए) तुम ख़ुदा की कुदरत से ताज्जुब करती हो

ऐ अहले बैत (नबूवत) तुम पर ख़ुदा की रहमत और उसकी बरकते (नाज़िल हो)

इसमें शक़ नहीं कि वह क़ाबिल हम्द (वासना) बुज़ुर्ग हैं

74.

फिर जब इबराहीम (के दिल) से ख़ौफ जाता रहा और उनके पास (औलाद की) खुशख़बरी भी आ चुकी तो हम से क़ौमे लूत के बारे में झगड़ने लगे

75.

बेशक इबराहीम बुर्दबार नरम दिल (हर बात में ख़ुदा की तरफ) रुजू (ध्यान) करने वाले थे

76.

(हमने कहा) ऐ इबराहीम इस बात में हट मत करो

(इस बार में) जो हुक्म तुम्हारे परवरदिगार का था वह क़तअन आ चुका

और इसमें शक़ नहीं कि उन पर ऐसा अज़ाब आने वाले वाला है

77.

और जब हमारे भेजे हुए फरिश्ते (लड़को की सूरत में) लूत के पास आए तो उनके ख्याल से रजीदा हुए और उनके आने से तंग दिल हो गए

और कहने लगे कि ये (आज का दिन) सख्त मुसीबत का दिन है

78.

और उनकी क़ौम (लड़को की आवाज़ सुनकर बुरे इरादे से) उनके पास दौड़ती हुई आई

और ये लोग उसके क़ब्ल भी बुरे काम किया करते थे

लूत ने (जब उनको) आते देखा तो कहा ऐ मेरी क़ौम ये मारी क़ौम की बेटियाँ (मौजूद हैं) उनसे निकाह कर लो ये तुम्हारीे वास्ते जायज़ और ज्यादा साफ सुथरी हैं

तो खुदा से डरो और मुझे मेरे मेहमान के बारे में रुसवा न करो

क्या तुम में से कोई भी समझदार आदमी नहीं है

79.

उन (कम्बख्तो) न जवाब दिया तुम को खूब मालूम है कि तुम्हारी क़ौम की लड़कियों की हमें कुछ हाजत (जरूरत) नही है

और जो बात हम चाहते है वह तो तुम ख़ूब जानते हो

80.

लूत ने कहा काश मुझमें तुम्हारे मुक़ाबले की कूवत होती

या मै किसी मज़बूत क़िले मे पनाह ले सकता

81.

वह फरिश्ते बोले ऐ लूत हम तुम्हारे परवरदिगार के भेजे हुए फरिश्ते हैं (तुम घबराओ नहीं) ये लोग तुम तक हरगिज़ नहीं पहुँच सकते

तो तुम कुछ रात रहे अपने लड़कों बालों समैत निकल भागो

और तुममें से कोई इधर मुड़ कर भी न देखे मगर तुम्हारी बीबी

कि उस पर भी यक़ीनन वह अज़ाब नाज़िल होने वाला है जो उन लोगों पर नाज़िल होगा

और उन (के अज़ाब का) वायदा बस सुबह है

क्या सुबह क़रीब नहीं

82.

फिर जब हमारा (अज़ाब का) हुक्म आ पहुँचा तो हमने (बस्ती की ज़मीन के तबके) उलट कर उसके ऊपर के हिस्से को नीचे का बना दिया

और उस पर हमने खरन्जेदार पत्थर ताबड़ तोड़ बरसाए

83.

जिन पर तुम्हारे परवरदिगार की तरफ से निशान बनाए हुए थे

और वह बस्ती (उन) ज़ालिमों (कुफ्फ़ारे मक्का) से कुछ दूर नहीं

84.

और हमने मदयन वालों के पास उनके भाई शुएब को पैग़म्बर बना कर भेजा

उन्होंने (अपनी क़ौम से) कहा ऐ मेरी क़ौम ख़ुदा की इबादत करो उसके सिवा तुम्हारा कोई ख़ुदा नहीं

और नाप और तौल में कोई कमी न किया करो

मै तो तुम को आसूदगी (ख़ुशहाली) में देख रहा हूँ

(फिर घटाने की क्या ज़रुरत है)

और मै तो तुम पर उस दिन के अज़ाब से डराता हूँ जो (सबको) घेर लेगा

85.

और ऐ मेरी क़ौम पैमाने और तराज़ू ऌन्साफ़ के साथ पूरे पूरे रखा करो

और लोगों को उनकी चीज़े कम न दिया करो

और रुए ज़मीन में फसाद न फैलाते फिरो

86.

अगर तुम सच्चे मोमिन हो तो ख़ुदा का बक़िया तुम्हारे वास्ते कही अच्छा है

और मैं तो कुछ तुम्हारा निगेहबान नहीं

87.

वह लोग कहने लगे ऐ शुएब क्या तुम्हारी नमाज़ (जिसे तुम पढ़ा करते हो) तुम्हें ये सिखाती है कि जिन (बुतों) की परसतिश हमारे बाप दादा करते आए उन्हें हम छोड़ बैठें

या हम अपने मालों में जो कुछ चाहे कर बैठें

तुम ही तो बस एक बुर्दबार और समझदार (रह गए) हो

88.

शुएब ने कहा ऐ मेरी क़ौम अगर मै अपने परवरदिगार की तरफ से रौशन दलील पर हूँ और उसने मुझे (हलाल) रोज़ी खाने को दी है

(तो मै भी तुम्हारी तरह हराम खाने लगूँ)

और मै तो ये नहीं चाहता कि जिस काम से तुम को रोकूँ तुम्हारे बर ख़िलाफ (बदले) आप उसको करने लगूं

मैं तो जहाँ तक मुझे बन पड़े इसलाह (भलाई) के सिवा (कुछ और) चाहता ही नहीं

और मेरी ताईद तो ख़ुदा के सिवा और किसी से हो ही नहीं सकती

इस पर मैने भरोसा कर लिया है और उसी की तरफ रुज़ू करता हूँ

89.

और ऐ मेरी क़ौमे मेरी ज़िद कही तुम से ऐसा जुर्म न करा दे जैसी मुसीबत क़ौम नूह या हूद या सालेह पर नाज़िल हुई थी वैसी ही मुसीबत तुम पर भी आ पड़े

और लूत की क़ौम (का ज़माना) तो (कुछ ऐसा) तुमसे दूर नहीं

(उन्हीं से इबरत हासिल करो)

90.

और अपने परवरदिगार से अपनी मग़फिरत की दुआ माँगों फिर उसी की बारगाह में तौबा करो

बेशक मेरा परवरदिगार बड़ा मोहब्बत वाला मेहरबान है

91.

और वह लोग कहने लगे ऐ शुएब जो बाते तुम कहते हो उनमें से अक्सर तो हमारी समझ ही में नहीं आयी

और इसमें तो शक नहीं कि हम तुम्हें अपने लोगों में बहुत कमज़ोर समझते है

और अगर तुम्हारा क़बीला न होता तो हम तुम को (कब का) संगसार कर चुके होते

और तुम तो हम पर किसी तरह ग़ालिब नहीं आ सकते

92.

शुएब ने कहा ऐ मेरी क़ौम क्या मेरे कबीले का दबाव तुम पर ख़ुदा से भी बढ़ कर है

(कि तुम को उसका ये ख्याल)

और ख़ुदा को तुम लोगों ने अपने वास्ते पीछे डाल दिया है

बेशक मेरा परवरदिगार तुम्हारे सब आमाल पर अहाता किए हुए है

93.

और ऐ मेरी क़ौम तुम अपनी जगह (जो चाहो) करो मैं भी (बजाए खुद) कुछ करता हू

अनक़रीब ही तुम्हें मालूम हो जाएगा कि किस पर अज़ाब नाज़िल होता है जा उसको (लोगों की नज़रों में) रुसवा कर देगा और (ये भी मालूम हो जाएगा कि) कौन झूठा है

तुम भी मुन्तिज़र रहो मैं भी तुम्हारे साथ इन्तेज़ार करता हूँ

94.

और जब हमारा (अज़ाब का) हुक्म आ पहुँचा तो हमने शुएब और उन लोगों को जो उसके साथ ईमान लाए थे अपनी मेहरबानी से बचा लिया

और जिन लोगों ने ज़ुल्म किया था उनको एक चिंघाड़ ने ले डाला फिर तो वह सबके सब अपने घरों में औंधे पड़े रह गए

95.

(और वह ऐसे मर मिटे) कि गोया उन बस्तियों में कभी बसे ही न थे

सुन रखो कि जिस तरह समूद (ख़ुदा की बारगाह से) धुत्कारे गए उसी तरह अहले मदियन की भी धुत्कारी हुई

96.

और बेशक हमने मूसा को अपनी निशानियाँ और रौशन दलील देकर (पैग़म्बर बना कर) भेजा

97.

फिरऔन और उसके अम्र (सरदारों) के पास

तो लोगों ने फिरऔन ही का हुक्म मान लिया

(और मूसा की एक न सुनी)

हालॉकि फिरऔन का हुक्म कुछ जॅचा समझा हुआ न था

98.

क़यामत के दिन वह अपनी क़ौम के आगे आगे चलेगा और उनको दोज़ख़ में ले जाकर झोंक देगा

और ये लोग किस क़दर बड़े घाट उतारे गए

99.

और (इस दुनिया) में भी लानत उनके पीछे पीछे लगा दी गई और क़यामत के दिन भी (लगी रहेगी)

क्या बुरा इनाम है जो उन्हें मिला

100.

(ऐ रसूल) ये चन्द बस्तियों के हालात हैं जो हम तुम से बयान करते हैं

उनमें से बाज़ तो (उस वक्त तक) क़ायम हैं और बाज़ का तहस नहस हो गया

101.

और हमने किसी तरह उन पर ज़ल्म नहीं किया बल्कि उन लोगों ने आप अपने ऊपर (नाफरमानी करके) ज़ुल्म किया

फिर जब तुम्हारे परवरदिगार का (अज़ाब का) हुक्म आ पहुँचा तो न उसके वह माबूद ही काम आए जिन्हें ख़ुदा को छोड़कर पुकारा करते थें

और न उन माबूदों ने हलाक करने के सिवा कुछ फायदा ही पहुँचाया बल्कि उन्हीं की परसतिश की बदौलत अज़ाब आया

102.

और (ऐ रसूल) बस्तियों के लोगों की सरकशी से जब तुम्हारा परवरदिगार अज़ाब में पकड़ता है तो उसकी पकड़ ऐसी ही होती है

बेशक पकड़ तो दर्दनाक (और सख्त) होती है

103.

इसमें तो शक़ नहीं कि उस शख़्श के वास्ते जो अज़ाब आख़िरत से डरता है (हमारी कुदरत की) एक निशानी है

ये वह रोज़ होगा कि सारे (जहाँन) के लोग जमा किए जाएंगें

और यही वह दिन होगा कि (हमारी बारगाह में) सब हाज़िर किए जाएंगें

104.

और हम बस एक मुअय्युन मुद्दत तक इसमें देर कर रहे है

105.

जिस दिन वह आ पहुँचेगा तो बग़ैर हुक्मे ख़ुदा कोई शख़्श बात भी तो नहीं कर सकेगा

फिर कुछ लोग उनमे से बदबख्त होगें और कुछ लोग नेक बख्त

106.

तो जो लोग बदबख्त है वह दोज़ख़ में होगें और उसी में उनकी हाए वाए और चीख़ पुकार होगी

107.

वह लोग जब तक आसमान और ज़मीन में है हमेशा उसी मे रहेगें मगर जब तुम्हारा परवरदिगार (नजात देना) चाहे

बेशक तुम्हारा परवरदिगार जो चाहता है कर ही डालता है

108.

और जो लोग नेक बख्त हैं वह तो बेहश्त में होगें

(और) जब तक आसमान व ज़मीन (बाक़ी) है वह हमेशा उसी में रहेगें मगर जब तेरा परवरदिगार चाहे

(सज़ा देकर आख़िर में जन्नत में ले जाए)

ये वह बख़्शिस है जो कभी मनक़तआ (खत्म) न होगी

109.

तो ये लोग (ख़ुदा के अलावा) जिसकी परसतिश करते हैं तुम उससे शक़ में न पड़ना

ये लोग तो बस वैसी इबादत करते हैं जैसी उनसे पहले उनके बाप दादा करते थे

और हम ज़रुर (क़यामत के दिन) उनको (अज़ाब का) पूरा पूरा हिस्सा बग़ैर कम किए देगें

110.

और हमने मूसा को किताब तौरैत अता की तो उसमें (भी) झगड़े डाले गए

और अगर तुम्हारे परवरदिगार की तरफ से हुक्म कोइ पहले ही न हो चुका होता तो उनके दरमियान (कब का) फैसला यक़ीनन हो गया होता

और ये लोग (कुफ्फ़ारे मक्का) भी इस (क़ुरान) की तरफ से बहुत गहरे शक़ में पड़े हैं

111.

और इसमें तो शक़ ही नहीं कि तुम्हारा परवरदिगार उनकी कारस्तानियों का बदला भरपूर देगा

(क्योंकि) जो उनकी करतूतें हैं उससे वह खूब वाक़िफ है

112.

तो (ऐ रसूल) जैसा तुम्हें हुक्म दिया है तुम और वह लोग भी जिन्होंने तुम्हारे साथ (कुफ्र से) तौबा की है ठीक साबित क़दम रहो और सरकशी न करो

(क्योंकि) तुम लोग जो कुछ भी करते हो वह यक़ीनन देख रहा है

113.

और (मुसलमानों) जिन लोगों ने (हमारी नाफरमानी करके) अपने ऊपर ज़ुल्म किया है उनकी तरफ माएल (झुकना) न होना और वरना तुम तक भी (दोज़ख़) की आग आ लपटेगी

और ख़ुदा के सिवा और लोग तुम्हारे सरपरस्त भी नहीं हैं फिर तुम्हारी मदद कोई भी नहीं करेगा

114.

और (ऐ रसूल) दिन के दोनो किनारे और कुछ रात गए नमाज़ पढ़ा करो

(क्योंकि) नेकियाँ यक़ीनन गुनाहों को दूर कर देती हैं

और (हमारी) याद करने वालो के लिए ये (बातें) नसीहत व इबरत हैं

115.

और (ऐ रसूल) तुम सब्र करो क्योंकि ख़ुदा नेकी करने वालों का अज्र बरबाद नहीं करता

116.

फिर जो लोग तुमसे पहले गुज़र चुके हैं उनमें कुछ लोग ऐसे अक़ल वाले क्यों न हुए जो (लोगों को) रुए ज़मीन पर फसाद फैलाने से रोका करते

(ऐसे लोग थे तो) मगर बहुत थोड़े से और ये उन्हीं लोगों से थे जिनको हमने अज़ाब से बचा लिया

और जिन लोगों ने नाफरमानी की थी वह उन्हीं (लज्ज़तों) के पीछे पड़े रहे और जो उन्हें दी गई थी और ये लोग मुजरिम थे ही

117.

और तुम्हारा परवरदिगार ऐसा (बे इन्साफ) कभी न था कि बस्तियों को जबरदस्ती उजाड़ देता और वहाँ के लोग नेक चलन हों

118.

और अगर तुम्हारा परवरदिगार चाहता तो बेशक तमाम लोगों को एक ही (किस्म की) उम्मत बना देता

(मगर) उसने न चाहा इसी (वजह से) लोग हमेशा आपस में फूट डाला करेगें

119.

मगर जिस पर तुम्हारा परवरदिगार रहम फरमाए

और इसलिए तो उसने उन लोगों को पैदा किया

(और इसी वजह से तो) तुम्हारा परवरदिगार का हुक्म क़तई पूरा होकर रहा कि हम यक़ीनन जहन्नुम को तमाम जिन्नात और आदमियों से भर देगें

120.

और (ऐ रसूल) पैग़म्बरों के हालत में से हम उन तमाम क़िस्सों को तुम से बयान किए देते हैं जिनसे हम तुम्हारे दिल को मज़बूत कर देगें

और उन्हीं क़िस्सों में तुम्हारे पास हक़ (क़ुरान) आ गई

और मोमिनीन के लिए नसीहत और याद दहानी भी

121.

और (ऐ रसूल) जो लोग ईमान नहीं लाते उनसे कहो कि तुम बजाए ख़ुद अमल करो हम भी कुछ (अमल) करते हैं

122.

(नतीजे का) तुम भी इन्तज़ार करो हम (भी) मुन्तिज़िर है

123.

और सारे आसमान व ज़मीन की पोशीदा बातों का इल्म ख़ास ख़ुदा ही को है

और उसी की तरफ हर काम हिर फिर कर लौटता है

तुम उसी की इबादत करो और उसी पर भरोसा रखो

और जो कुछ तुम लोग करते हो उससे ख़ुदा बेख़बर नहीं

*********

Copy Rights:

Zahid Javed Rana, Abid Javed Rana, Lahore, Pakistan

Visits wef 2016