कुरान हाकिम (हिंदी अनुवाद)

Surah TaHa

Previous         Index         Next

 

1.

ता हा

2.

(ऐ रसूल अल्लाह) हमने तुम पर कुरान इसलिए नाज़िल नहीं किया कि तुम (इस क़दर) मशक्क़त उठाओ

3.

मगर जो शख्स खुदा से डरता है उसके लिए नसीहत (क़रार दिया है)

4.

(ये) उस शख्स की तरफ़ से नाज़िल हुआ है जिसने ज़मीन और ऊँचे-ऊँचे आसमानों को पैदा किया

5.

वही रहमान है जो अर्श पर (हुक्मरानी के लिए) आमादा व मुस्तईद है

6.

जो कुछ आसमानों में है और जो कुछ ज़मीन में है और जो कुछ दोनों के बीच में है और जो कुछ ज़मीन के नीचे है (ग़रज़ सब कुछ) उसी का है

7.

और अगर तू पुकार कर बात करे (तो भी आहिस्ता करे तो भी) वह यक़ीनन भेद और उससे ज्यादा पोशीदा चीज़ को जानता है

8.

अल्लाह (वह माबूद है कि) उसके सिवा कोइ माबूद नहीं है

अच्छे-अच्छे उसी के नाम हैं

9.

और (ऐ रसूल) क्या तुम तक मूसा की ख़बर पहुँची है

10.

कि जब उन्होंने दूर से आग देखी तो अपने घर के लोगों से कहने लगे कि तुम लोग (ज़रा यहीं) ठहरो मैंने आग देखी है

क्या अजब है कि मैं वहाँ (जाकर) उसमें से एक अंगारा तुम्हारे पास ले आऊँ या आग के पास किसी राह का पता पा जाऊँ

11.

फिर जब मूसा आग के पास आए तो उन्हें आवाज आई कि ऐ मूसा

12.

बेशक मैं ही तुम्हारा परवरदिगार हूँ तो तुम अपनी जूतियाँ उतार डालो

क्योंकि तुम (इस वक्त) तुआ (नामी) पाक़ीज़ा चटियल मैदान में हो

13.

और मैंने तुमको पैग़म्बरी के वास्ते मुन्तख़िब किया (चुन लिया) है तो जो कुछ तुम्हारी तरफ़ वही की जाती है उसे कान लगा कर सुनो

14.

इसमें शक नहीं कि मैं ही वह अल्लाह हूँ कि मेरे सिवा कोई माबूद नहीं

तो मेरी ही इबादत करो और मेरी याद के लिए नमाज़ बराबर पढ़ा करो

15.

(क्योंकि) क़यामत ज़रूर आने वाली है

और मैं उसे लामहौला छिपाए रखूँगा ताकि हर शख्स (उसके ख़ौफ से नेकी करे) और वैसी कोशिश की है उसका उसे बदला दिया जाए

16.

तो (कहीं) ऐसा न हो कि जो शख्स उसे दिल से नहीं मानता और अपनी नफ़सियानी ख्वाहिश के पीछे पड़ा वह तुम्हें इस (फिक्र) से रोक दे तो तुम तबाह हो जाओगे

17.

और ऐ मूसा ये तुम्हारे दाहिने हाथ में क्या चीज़ है

18.

अर्ज़ की ये तो मेरी लाठी है मैं उस पर सहारा करता हूँ

और इससे अपनी बकरियों पर (और दरख्तों की) पत्तियाँ झाड़ता हूँ और उसमें मेरे और भी मतलब हैं

19.

फ़रमाया ऐ मूसा उसको ज़रा ज़मीन पर डाल तो दो

20.

मूसा ने उसे डाल दिया तो फ़ौरन वह साँप बनकर दौड़ने लगा

21.

(ये देखकर मूसा भागे)

तो फ़रमाया कि तुम इसको पकड़ लो और डरो नहीं

मैं अभी इसकी पहली सी सूरत फिर किए देता हूँ  

22.

और अपने हाथ को समेंट कर अपने बग़ल में तो कर लो (फिर देखो कि) वह बग़ैर किसी बीमारी के सफेद चमकता दमकता हुआ निकलेगा

ये दूसरा मौजिज़ा है

23.

(ये) ताकि हम तुमको अपनी (कुदरत की) बड़ी-बड़ी निशानियाँ दिखाएँ

24.

अब तुम फिरऔन के पास जाओ उसने बहुत सर उठाया है

25.

मूसा ने अर्ज़ की परवरदिगार (मैं जाता तो हूँ मगर तू मेरे लिए) मेरे सीने को कुशादा फरमा  (और दिलेर बना)

26.

और मेरा काम मेरे लिए आसान कर दे

27.

और मेरी ज़बान से लुक़नत की गिरह खोल दे

28.

ताकि लोग मेरी बात अच्छी तरह समझें

29.

और मेरे कीनेवालों में से मेरा वज़ीर बोझ बटाने वाला बना दे  

30.

मेरे भाई हारून को

31.

उसके ज़रिए से मेरी पुश्त मज़बूत कर दे

32.

और मेरे काम में उसको मेरा शरीक बना

33.

ताकि हम दोनों (मिलकर) कसरत से तेरी तसबीह करें

34.

और कसरत से तेरी याद करें

35.

तू तो हमारी हालत देख ही रहा है

36.

फ़रमाया ऐ मूसा तुम्हारी सब दरख्वास्तें मंज़ूर की गई

37.

और हम तो तुम पर एक बार और एहसान कर चुके हैं

38.

जब हमने तुम्हारी माँ को इलहाम किया जो अब तुम्हें ''वही'' के ज़रिए से बताया जाता है

39.

कि तुम इसे (मूसा को) सन्दूक़ में रखकर सन्दूक़ को दरिया में डाल दो

फिर दरिया उसे ढकेल कर किनारे डाल देगा कि मूसा को मेरा दुशमन और मूसा का दुशमन (फिरऔन) उठा लेगा

और मैंने तुम पर अपनी मोहब्बत को डाल दिया जो देखता (प्यार करता) ताकि तुम मेरी ख़ास निगरानी में पाले पोसे जाओ

40.

(उस वक्त) ज़ब तुम्हारी बहन चली (और फिर उनके घर में आकर) कहने लगी कि कहो तो मैं तुम्हें ऐसी दाया बताऊँ कि जो इसे अच्छी तरह पाले

तो (इस तदबीर से) हमने फिर तुमको तुम्हारी माँ के पास पहुँचा दिया ताकि उसकी ऑंखें ठन्डी रहें और तुम्हारी (जुदाई पर) कुढ़े नहीं

और तुमने एक शख्स (क़िबती) को मार डाला था और सख्त परेशान थे तो हमने तुमको (इस) ग़म से नजात दी और हमने तुम्हारा अच्छी तरह इम्तिहान कर लिया

फिर तुम कई बरस तक मदयन के लोगों में जाकर रहे

ऐ मूसा फिर तुम (उम्र के) एक अन्दाजे पर आ गए नबूवत के क़ायल हुए

41.

और मैंने तुमको अपनी रिसालत के वास्ते मुन्तख़िब किया

42.

तुम अपने भाई समैत हमारे मौजिज़े लेकर जाओ और (देखो) मेरी याद में सुस्ती न करना

43.

तुम दोनों फिरऔन के पास जाओ बेशक वह बहुत सरकश हो गया है

44.

फिर उससे (जाकर) नरमी से बातें करो ताकि वह नसीहत मान ले या डर जाए

45.

दोनों ने अर्ज़ की ऐ हमारे पालने वाले हम डरते हैं कि कहीं वह हम पर ज्यादती (न) कर बैठे या ज्यादा सरकशी कर ले

46.

फ़रमाया तुम डरो नहीं

मैं तुम्हारे साथ हूँ (सब कुछ) सुनता और देखता हूँ

47.

ग़रज़ तुम दोनों उसके पास जाओ और कहो कि हम आप के परवरदिगार के रसूल हैं तो बनी इसराइल को हमारे साथ भेज दीजिए और उन्हें सताइए नहीं

हम आपके पास आपके परवरदिगार का मौजिज़ा लेकर आए हैं

और जो राहे रास्त की पैरवी करे उसी के लिए सलामती है

48.

हमारे पास खुदा की तरफ से ये ''वही'' नाज़िल हुईहै कि यक़ीनन अज़ाब उसी शख्स पर है जो (खुदा की आयतों को) झुठलाए और उसके हुक्म से मुँह मोड़े

(ग़रज़ गए और कहा)

49.

फिरऔन ने पूछा ऐ मूसा आख़िर तुम दोनों का परवरदिगार कौन है

50.

मूसा ने कहा हमारा परवरदिगार वह है जिसने हर चीज़ को उसके (मुनासिब) सूरत अता फरमाई फिर उसी ने ज़िन्दगी बसर करने के तरीक़े बताए

51.

फिरऔन ने पूछा भला अगले लोगों का हाल (तो बताओ) कि क्या हुआ

52.

मूसा ने कहा इन बातों का इल्म मेरे परवरदिगार के पास एक किताब (लौहे महफूज़) में (लिखा हुआ) है

मेरा परवरदिगार न बहकता है न भूलता है

53.

वह वही है जिसने तुम्हारे (फ़ायदे के) वास्ते ज़मीन को बिछौना बनाया और तुम्हारे लिए उसमें राहें निकाली

और उसी ने आसमान से पानी बरसाया फिर (खुदा फरमाता है कि) हम ही ने उस पानी के ज़रिए से मुख्तलिफ़ क़िस्मों की घासे निकाली

54.

(ताकि) तुम खुद भी खाओ और अपने चारपायों को भी चराओ

कुछ शक नहीं कि इसमें अक्लमन्दों के वास्ते (क़ुदरते खुदा की) बहुत सी निशानियाँ हैं

55.

हमने इसी ज़मीन से तुम को पैदा किया और (मरने के बाद) इसमें लौटा कर लाएँगे और उसी से दूसरी बार (क़यामत के दिन) तुमको निकाल खड़ा करेंगे

56.

और मैंने फिरऔन को अपनी सारी निशानियाँ दिखा दी इस पर भी उसने सबको झुठला दिया और न माना

57.

(और) कहने लगा ऐ मूसा क्या तुम हमारे पास इसलिए आए हो कि हम को हमारे मुल्क (मिस्र से) अपने जादू के ज़ोर से निकाल बाहर करो

58.

अच्छा तो (रहो) हम भी तुम्हारे सामने ऐसा जादू पेश करते हैं

फिर तुम अपने और हमारे दरमियान एक वक्त मुक़र्रर करो

कि न हम उसके ख़िलाफ करे और न तुम

और मुक़ाबला एक साफ़ खुले मैदान में हो

59.

मूसा ने कहा तुम्हारे (मुक़ाबले) की मीयाद ज़ीनत (ईद) का दिन है और उस रोज़ सब लोग दिन चढ़े जमा किए जाँए

60.

उसके बाद फिरऔन (अपनी जगह) लौट गया फिर अपने चलत्तर (जादू के सामान) जमा करने लगा

61.

फिर (मुक़ाबले को) आ मौजूद हुआ मूसा ने (फ़िरऔनियों से) कहा तुम्हारा नास हो खुदा पर झूठी-झूठी इफ्तेरा परदाज़ियाँ न करो वरना वह अज़ाब (नाज़िल करके) इससे तुम्हारा मटियामेट कर छोड़ेगा

और (याद रखो कि) जिसने इफ्तेरा परदाज़ियाँ न की वह यकीनन नामुराद रहा

62.

उस पर वह लोग अपने काम में बाहम झगड़ने और सरगोशियाँ करने लगे

63.

(आख़िर) वह लोग बोल उठे कि ये दोनों यक़ीनन जादूगर हैं और चाहते हैं कि अपने जादू  (के ज़ोर) से तुम लोगों को तुम्हारे मुल्क से निकाल बाहर करें

और तुम्हारे अच्छे ख़ासे मज़हब को मिटा छोड़ें  

64.

तो तुम भी खूब अपने चलत्तर (जादू वग़ैरह) दुरूस्त कर लो फिर परा (सफ़) बाँध के (उनके मुक़ाबले में) आ पड़ो

और जो आज डर रहा हो वही फायज़ुलहराम रहा

65.

ग़रज़ जादूगरों ने कहा (ऐ मूसा) या तो तुम ही (अपने जादू) फेंको और या ये कि पहले जो जादू फेंके वह हम ही हों

66.

मूसा ने कहा (मैं नहीं डालूँगा) बल्कि तुम ही पहले डालो

(ग़रज़ उन्होंने अपने करतब दिखाए)

तो बस मूसा को उनके जादू (के ज़ोर से) ऐसा मालूम हुआ कि उनकी रस्सियाँ और उनकी छड़ियाँ दौड़ रही हैं

67.

तो मूसा ने अपने दिल में कुछ दहशत सी पाई

68.

हमने कहा (मूसा) इस से डरो नहीं यक़ीनन तुम ही वर रहोगे

69.

और तुम्हारे दाहिने हाथ में जो (लाठी) है उसे डाल तो दो कि जो करतब उन लोगों ने की है उसे हड़प कर जाए

क्योंकि उन लोगों ने जो कुछ करतब की वह एक जादूगर की करतब है

और जादूगर जहाँ जाए कामयाब नहीं हो सकता  

70.

(ग़रज मूसा की लाटी ने सब हड़प कर लिया)

(ये देखते ही) वह सब जादूगर सजदे में गिर पड़े

(और कहने लगे)

कि हम मूसा और हारून के परवरदिगार पर ईमान ले आए

71.

फिरऔन ने उन लोगों से कहा (हाए) इससे पहले कि हम तुमको इजाज़त दें तुम उस पर ईमान ले आए

इसमें शक नहीं कि ये तुम सबका बड़ा (गुरू) है जिसने तुमको जादू सिखाया है

तो मैं तुम्हारा एक तरफ़ के हाथ और दूसरी तरफ़ के पाँव ज़रूर काट डालूँगा और तुम्हें यक़ीनन खुरमे की शाख़ों पर सूली चढ़ा दूँगा

और उस वक्त तुमको (अच्छी तरह) मालूम हो जाएगा कि हम (दोनों) फरीक़ों से अज़ाब में ज्यादा बढ़ा हुआ कौन और किसको क़याम ज्यादा है

72.

जादूगर बोले कि ऐसे वाजेए व रौशन मौजिज़ात जो हमारे सामने आए उन पर और जिस (खुदा) ने हमको पैदा किया उस पर तो हम तुमको किसी तरह तरजीह नहीं दे सकते

तो जो तुझे करना हो कर गुज़र

तो बस दुनिया की (इसी ज़रा) ज़िन्दगी पर हुकूमत कर सकता है

73.

(और कहा) हम तो अपने परवरदिगार पर इसलिए ईमान लाए हैं ताकि हमारे वास्ते सारे गुनाह माफ़ कर दे

और (ख़ास कर) जिस पर तूने हमें मजबूर किया था

और खुदा ही सबसे बेहतर है और (उसी को) सबसे ज्यादा क़याम है

74.

इसमें शक नहीं कि जो शख्स मुजरिम होकर अपने परवरदिगार के सामने हाज़िर होगा तो उसके लिए यक़ीनन जहन्नुम (धरा हुआ) है

जिसमें न तो वह मरे ही गा और न ज़िन्दा ही रहेगा (सिसकता रहेगा)

75.

और जो शख्स उसके सामने ईमानदार हो कर हाज़िर होगा और उसने अच्छे-अच्छे काम भी किए होंगे

तो ऐसे ही लोग हैं जिनके लिए बड़े-बड़े बुलन्द रूतबे हैं

76.

वह सदाबहार बाग़ात जिनके नीचे नहरें जारी हैं वह लोग उसमें हमेशा रहेंगे

और जो गुनाह से पाक व पाकीज़ा रहे उस का यही सिला है

77.

और हमने मूसा के पास ''वही'' भेजी कि मेरे बन्दों (बनी इसराइल) को (मिस्र से) रातों रात निकाल ले जाओ

फिर दरिया में (लाठी मारकर) उनके लिए एक सूखी राह निकालो

और तुमको पीछा करने का न कोई खौफ़ रहेगा न (डूबने की) कोई दहशत

78.

ग़रज़ फिरऔन ने अपने लशकर समैत उनका पीछा किया फिर दरिया (के पानी का रेला) जैसा कुछ उन पर छाया गया वह छा गया

79.

और फिरऔन ने अपनी क़ौम को गुमराह (करके हलाक) कर डाला और उनकी हिदायत न की

80.

बनी इसराइल हमने तुमको तुम्हारे दुश्मन (के पंजे) से छुड़ाया

और तुम से (कोहेतूर) के दाहिने तरफ का वायदा किया

और हम ही ने तुम पर मन व सलवा नाज़िल किया

81.

और (फ़रमाया) कि हमने जो पाक व पाक़ीज़ा रोज़ी तुम्हें दे रखी है उसमें से खाओ (पियो)

और उसमें (किसी क़िस्म की) शरारत न करो वरना तुम पर मेरा अज़ाब नाज़िल हो जाएगा

और (याद रखो कि) जिस पर मेरा ग़ज़ब नाज़िल हुआ तो वह यक़ीनन गुमराह (हलाक) हुआ

82.

और जो शख्स तौबा करे और ईमान लाए और अच्छे काम करे फिर साबित क़दम रहे तो हम उसको ज़रूर बख्शने वाले हैं

83.

(फिर जब मूसा सत्तर आदमियों को लेकर चले और खुद बढ़ आए तो हमने कहा कि)

ऐ मूसा तुमने अपनी क़ौम से आगे चलने में क्यों जल्दी की

84.

ग़रज़ की वह भी तो मेरे ही पीछे चले आ रहे हैं

और इसी लिए मैं जल्दी करके तेरे पास इसलिए आगे बढ़ आया हूँ ताकि तू (मुझसे) खुश रहे

85.

फ़रमाया तो हमने तुम्हारे (आने के बाद) तुम्हारी क़ौम का इम्तिहान लिया

और सामरी ने उनको गुमराह कर छोड़ा

86.

(तो मूसा) गुस्से में भरे पछताए हुए अपनी क़ौम की तरफ पलटे

और आकर कहने लगे ऐ मेरी (क़म्बख्त) क़ौम क्या तुमसे तुम्हारे परवरदिगार ने एक अच्छा वायदा (तौरेत देने का) न किया था

तुम्हारे वायदे में अरसा लग गया

या तुमने ये चाहा कि तुम पर तुम्हारे परवरदिगार का ग़ज़ब टूंट पड़े

कि तुमने मेरे वायदे (खुदा की परसतिश) के ख़िलाफ किया

87.

वह लोग कहने लगे हमने आपके वायदे के ख़िलाफ नहीं किया

बल्कि (बात ये हुईकि फिरऔन की) क़ौम के ज़ेवर के बोझे जो (मिस्र से निकलते वक्त) हम पर लोग गए थे उनको हम लोगों ने (सामरी के कहने से आग में) डाल दिया

फिर सामरी ने भी डाल दिया

88.

फिर सामरी ने उन लोगों के लिए (उसी जेवर से) एक बछड़े की मूरत बनाई जिसकी आवाज़ भी बछड़े की सी थी

उस पर बाज़ लोग कहने लगे यही तुम्हारा (भी) माबूद और मूसा का (भी) माबूद है मगर वह भूल गया है

89.

भला इनको इतनी भी न सूझी कि ये बछड़ा न तो उन लोगों को पलट कर उन की बात का जवाब ही देता है

और न उनका ज़रर ही उस के हाथ में है और न नफ़ा

90.

और हारून ने उनसे पहले कहा भी था कि ऐ मेरी क़ौम तुम्हारा सिर्फ़ इसके ज़रिये से इम्तिहान किया जा रहा है

और इसमें शक नहीं कि तम्हारा परवरदिगार (बस) खुदाए रहमान है

तो तुम मेरी पैरवी करो और मेरा कहा मानो

91.

तो वह लोग कहने लगे जब तक मूसा हमारे पास पलट कर न आएँ हम तो बराबर इसकी परसतिश पर डटे बैठे रहेंगे

92.

मूसा ने हारून की तरफ ख़िताब करके कहा ऐ हारून जब तुमने उनको देख लिया था गमुराह हो गए हैं तो तुम्हें किसने मना किया

93.

मेरी पैरवी (क़ताल) करने को

तो क्या तुमने मेरे हुक्म की नाफ़रमानी की

94.

हारून ने कहा ऐ मेरे माँजाए (भाई) मेरी दाढ़ी न पकडिऐ और न मेरे सर (के बाल)

मैं तो उससे डरा कि (कहीं) आप (वापस आकर) ये (न) कहिए कि तुमने बनी इसराईल में फूट डाल दी और मेरी बात का भी ख्याल न रखा

95.

तब सामरी से कहने लगे कि ओ सामरी तेरा क्या हाल है

96.

उसने (जवाब में) कहा मुझे वह चीज़ दिखाई दी जो औरों को न सूझी

(जिबरील घोड़े पर सवार जा रहे थे)

तो मैंने जिबरील फरिश्ते (के घोड़े) के निशाने क़दम की एक मुट्ठी (ख़ाक) की उठा ली फिर मैंने (बछड़ों के क़ालिब में) डाल दी

(तो वह बोलेने लगा)

और उस वक्त मुझे मेरे नफ्स ने यही सुझाया

97.

मूसा ने कहा चल (दूर हो) तेरे लिए (इस दुनिया की) ज़िन्दगी में तो (ये सज़ा है) तू कहता फ़िरेगा कि मुझे न छूना (वरना बुख़ार चढ़ जाएगा)

और (आख़िरत में भी) यक़ीनी तेरे लिए (अज़ाब का) वायदा है कि हरगिज़ तुझसे ख़िलाफ़ न किया जाएगा

और तू अपने माबूद को तो देख जिस (की इबादत) पर तू डट बैठा था

कि हम उसे यक़ीनन जलाकर (राख) कर डालेंगे फिर हम उसे तितिर बितिर करके दरिया में उड़ा देगें

98.

तुम्हारा माबूद तो बस वही ख़ुदा है जिसके सिवा कोई और माबूद बरहक़ नहीं

कि उसका इल्म हर चीज़ पर छा गया है

99.

(ऐ रसूल) हम तुम्हारे सामने यूँ वाक़ेयात बयान करते हैं जो गुज़र चुके

और हमने ही तुम्हारे पास अपनी बारगाह से कुरान अता किया

100.

जिसने उससे मुँह फेरा वह क़यामत के दिन यक़ीनन (अपने बुरे आमाल का) बोझ उठाएगा

101.

और उसी हाल में हमेशा रहेंगे

और क्या ही बुरा बोझ है क़यामत के दिन ये लोग उठाए होंगे

102.

जिस दिन सूर फूँका जाएगा

और हम उस दिन गुनाहगारों को (उनकी) ऑंखें पुतली (अन्धी) करके (आमने-सामने) जमा करेंगे

103.

(और) आपस में चुपके-चुपके कहते होंगे कि (दुनिया या क़ब्र में) हम लोग (बहुत से बहुत) नौ दस दिन ठहरे होंगे

104.

जो कुछ ये लोग (उस दिन) कहेंगे हम खूब जानते हैं

कि जो इनमें सबसे ज्यादा होशियार होगा बोल उठेगा कि तुम बस (बहुत से बहुत) एक दिन ठहरे होगे

105.

(और ऐ रसूल) तुम से लोग पहाड़ों के बारे में पूछा करते हैं

(कि क़यामत के रोज़ क्या होगा)

तो तुम कह दो कि मेरा परवरदिगार बिल्कुल रेज़ा रेज़ा करके उड़ा डालेगा

106.

और ज़मीन को एक चटियल मैदान कर छोड़ेगा

107.

कि (ऐ शख्स) न तो उसमें मोड़ देखेगा और न ऊँच-नीच

108.

उस दिन लोग एक पुकारने वाले इसराफ़ील की आवाज़ के पीछे (इस तरह सीधे) दौड़ पड़ेगे कि उसमें कुछ भी कज़ी न होगी

और आवाज़े उस दिन खुदा के सामने (इस तरह) घिघियाएगें

कि तू घुनघुनाहट के सिवा और कुछ न सुनेगा

109.

उस दिन किसी की सिफ़ारिश काम न आएगी मगर जिसको खुदा ने इजाज़त दी हो और उसका बोलना पसन्द करे

110.

जो कुछ उन लोगों के सामने है और जो कुछ उनके पीछे है (ग़रज़ सब कुछ) वह जानता है

और ये लोग अपने इल्म से उसपर हावी नहीं हो सकते

111.

और (क़यामत में) सारी (खुदाई के) का मुँह ज़िन्दा और बाक़ी रहने वाले खुदा के सामने झुक जाएँगे

और जिसने जुल्म का बोझ (अपने सर पर) उठाया वह यक़ीनन नाकाम रहा

112.

और जिसने अच्छे-अच्छे काम किए और वह मोमिन भी है तो उसको न किसी तरह की बेइन्साफ़ी का डर है और न किसी नुक़सान का

113.

हमने उसको उसी तरह अरबी ज़बान का कुरान नाज़िल फ़रमाया

और उसमें अज़ाब के तरह-तरह के वायदे बयान किए ताकि ये लोग परहेज़गार बनें

या उनके मिजाज़ में इबरत पैदा कर दे  

114.

पस (दो जहाँ का) सच्चा बादशाह खुदा बरतर व आला है

और (ऐ रसूल) कुरान के (पढ़ने) में उससे पहले कि तुम पर उसकी ''वही'' पूरी कर दी जाए जल्दी न करो

और दुआ करो कि ऐ मेरे पालने वाले मेरे इल्म को और ज्यादा फ़रमा  

115.

और हमने आदम से पहले ही एहद ले लिया था कि उस दरख्त के पास न जाना तो आदम ने उसे तर्क कर दिया

और हमने उनमें साबित व इस्तक़लाल न पाया

116.

और जब हमने फ़रिश्तों से कहा कि आदम को सजदा करो

तो सबने सजदा किया मगर शैतान ने इन्कार किया

117.

तो मैंने (आदम से कहा) कि ऐ आदम ये यक़ीनी तुम्हारा और तुम्हारी बीवी का दुशमन है

तो कहीं तुम दोनों को बेहिश्त से निकलवा न छोड़े तो तुम (दुनिया की) मुसीबत में फँस जाओ

118.

कुछ शक नहीं कि (बेहिश्त में) तुम्हें ये आराम है कि न तो तुम यहाँ भूके रहोगे और न नँगे

119.

और न यहाँ प्यासे रहोगे और न धूप खाओगे

120.

तो शैतान ने उनके दिल में वसवसा डाला

(और) कहा ऐ आदम क्या मैं तम्हें (हमेशगी की ज़िन्दगी) का दरख्त और वह सल्तनत जो कभी ज़ाएल न हो बता दूँ

121.

चुनान्चे दोनों मियाँ बीबी ने उसी में से कुछ खाया तो उनका आगा पीछा उनपर ज़ाहिर हो गया और दोनों बेहिश्त के (दरख्त के) पत्ते अपने आगे पीछे पर चिपकाने लगे

और आदम ने अपने परवरदिगार की नाफ़रमानी की तो (राहे सवाब से) बेराह हो गए

122.

इसके बाद उनके परवरदिगार ने बर गुज़ीदा किया फिर उनकी तौबा कुबूल की और उनकी हिदायत की

123.

फरमाया कि तुम दोनों बेहश्त से नीचे उतर जाओ

तुम में से एक का एक दुशमन है

फिर अगर तुम्हारे पास मेरी तरफ से हिदायत पहुँचे तो (तुम) उसकी पैरवी करना क्योंकि जो शख्स मेरी हिदायत पर चलेगा न तो गुमराह होगा और न मुसीबत में फँसेगा

124.

और जिस शख्स ने मेरी याद से मुँह फेरा तो उसकी ज़िन्दगी बहुत तंगी में बसर होगी

और हम उसको क़यामत के दिन अंधा बना के उठाएँगे

125.

वह कहेगा इलाही मैं तो (दुनिया में) ऑंख वाला था तूने मुझे अन्धा करके क्यों उठाया

126.

खुदा फरमाएगा ऐसा ही (होना चाहिए) हमारी आयतें भी तो तेरे पास आई तो तू उन्हें भुला बैठा

और इसी तरह आज तू भी भूला दिया जाएगा

127.

और जिसने (हद से) तजाविज़ किया और अपने परवरदिगार की आयतों पर ईमान न लाया उसको ऐसी ही बदला देगें

और आख़िरत का अज़ाब तो यक़ीनी बहुत सख्त और बहुत देर पा है

128.

तो क्या उन (अहले मक्का) को उस (खुदा) ने ये नहीं बता दिया था कि हमने उनके पहले कितने लोगों को हलाक कर डाला जिनके घरों में ये लोग चलते फिरते हैं

इसमें शक नहीं कि उसमें अक्लमंदों के लिए (कुदरते खुदा की) यक़ीनी बहुत सी निशानियाँ हैं

129.

और (ऐ रसूल) अगर तुम्हारे परवरदिगार की तरफ से पहले ही एक वायदा (और अज़ाब का) एक वक्त मुअय्युन न होता तो (उनकी हरकतों से) फ़ौरन अज़ाब का आना लाज़मी बात थी

130.

( रसूल) जो कुछ ये कुफ्फ़ार बका करते हैं तुम उस पर सब्र करो

और आफ़ताब निकलने के क़ब्ल और उसके ग़ुरूब होने के क़ब्ल अपने परवरदिगार की हम्दोसना के साथ तसबीह किया करो

और कुछ रात के वक़्तों में और दिन के किनारों में तस्बीह करो

ताकि तुम निहाल हो जाओ

131.

और (ऐ रसूल) जो उनमें से कुछ लोगों को दुनिया की इस ज़रा सी ज़िन्दगी की रौनक़ से निहाल कर दिया है ताकि हम उनको उसमें आज़माएँ तुम अपनी नज़रें उधर न बढ़ाओ

और (इससे) तुम्हारे परवरदिगार की रोज़ी (सवाब) कहीं बेहतर और ज्यादा पाएदार है

132.

और अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म दो और तुम खुद भी उसके पाबन्द रहो

हम तुम से रोज़ी तो तलब करते नहीं (बल्कि) हम तो खुद तुमको रोज़ी देते हैं

और परहेज़गारी ही का तो अन्जाम बखैर है

133.

और (अहले मक्का) कहते हैं कि अपने परवरदिगार की तरफ से हमारे पास कोई मौजिज़ा हमारी मर्ज़ी के मुवाफिक़ क्यों नहीं लाते

तो क्या जो (पेशीव गोइयाँ) अगली किताबों (तौरेत, इन्जील) में (इसकी) गवाह हैं वह भी उनके पास नहीं पहुँची

134.

और अगर हम उनको इस रसूल से पहले अज़ाब से हलाक कर डालते तो ज़रूर कहते कि

हमारे पालने वाले तूने हमारे पास (अपना) रसूल क्यों न भेजा तो हम अपने ज़लील व रूसवा होने से पहले तेरी आयतों की पैरवी ज़रूर करते

135.

रसूल तुम कह दो कि हर शख्स (अपने अन्जामकार का) मुन्तिज़र है तो तुम भी इन्तिज़ार करो

फिर तो तुम्हें बहुत जल्द मालूम हो जाएगा कि सीधी राह वाले कौन हैं (और कज़ी पर कौन हैं) हिदायत याफ़ता कौन है और गुमराह कौन है।

*********

Copy Rights:

Zahid Javed Rana, Abid Javed Rana, Lahore, Pakistan

Visits wef 2016