कुरान हाकिम (हिंदी अनुवाद)

Surah Al Mominun

Previous         Index         Next

 

1.

अलबत्ता वह ईमान लाने वाले रस्तगार हुए

2.

जो अपनी नमाज़ों में (खुदा के सामने) गिड़गिड़ाते हैं

3.

और जो बेहूदा बातों से मुँह फेरे रहते हैं

4.

और जो ज़कात (अदा) किया करते हैं

5.

और जो (अपनी) शर्मगाहों को (हराम से) बचाते हैं

6.

मगर अपनी बीबियों से या अपनी ज़र ख़रीद लौनडियों से

कि उन पर हरगिज़ इल्ज़ाम नहीं हो सकता

7.

पस जो शख्स उसके सिवा किसी और तरीके से शहवत परस्ती की तमन्ना करे तो ऐसे ही लोग हद से बढ़ जाने वाले हैं

8.

और जो अपनी अमानतों और अपने एहद का लिहाज़ रखते हैं

9.

और जो अपनी नमाज़ों की पाबन्दी करते हैं

10.

(आदमी की औलाद में) यही लोग सच्चे वारिस है

11.

जो बेहश्त बरी का हिस्सा लेंगे (और) यही लोग इसमें हमेशा (जिन्दा) रहेंगे

12.

और हमने आदमी को गीली मिट्टी के जौहर से पैदा किया

13.

फिर हमने उसको एक महफूज़ जगह (औरत के रहम में) नुत्फ़ा बना कर रखा

14.

फिर हम ही ने नुतफ़े को जमा हुआ ख़ून बनाया

फिर हम ही ने मुनजमिद खून को गोश्त का लोथड़ा बनाया

हम ही ने लोथडे क़ी हड्डियाँ बनायीं

फिर हम ही ने हड्डियों पर गोश्त चढ़ाया

फिर हम ही ने उसको (रुह डालकर) एक दूसरी सूरत में पैदा किया

तो (सुबहान अल्लाह) ख़ुदा बा बरकत है जो सब बनाने वालो से बेहतर है

15.

फिर इसके बाद यक़ीनन तुम सब लोगों को (एक न एक दिन) मरना है

16.

इसके बाद कयामत के दिन तुम सब के सब कब्रों से उठाए जाओगे

17.

और हम ही ने तुम्हारे ऊपर तह ब तह आसमान बनाए

और हम मख़लूक़ात से बेखबर नही है

18.

और हमने आसमान से एक अन्दाजे क़े साथ पानी बरसाया फिर उसको ज़मीन में (हसब मसलेहत) ठहराए रखा

और हम तो यक़ीनन उसके ग़ाएब कर देने पर भी क़ाबू रखते है

19.

फिर हमने उस पानी से तुम्हारे वास्ते खजूरों और अंगूरों के बाग़ात बनाए

कि उनमें तुम्हारे वास्ते (तरह तरह के) बहुतेरे मेवे (पैदा होते) हैं उनमें से बाज़ को तुम खाते हो

20.

और (हम ही ने ज़ैतून का) दरख्त (पैदा किया) जो तूरे सैना (पहाड़) में (कसरत से) पैदा होता है

जिससे तेल भी निकलता है और खाने वालों के लिए सालन भी है

21.

और उसमें भी शक नहीं कि तुम्हारे वास्ते चौपायों में भी इबरत की जगह है

और (ख़ाक बला) जो कुछ उनके पेट में है उससे हम तुमको दूध पिलाते हैं

और जानवरों में तो तुम्हारे और भी बहुत से फायदे हैं और उन्हीं में से बाज़ तुम खाते हो

22.

और उन्हें जानवरों और कश्तियों पर चढे चढ़े फिरते भी हो

23.

और हमने नूह को उनकी काैम के पास पैग़म्बर बनाकर भेजा तो नूह ने (उनसे) कहा

मेरी क़ौम खुदा ही की इबादत करो उसके सिवा कोई तुम्हारा माबूद नहीं

तो क्या तुम (उससे) डरते नहीं हो

24.

तो उनकी क़ौम के सरदारों ने जो काफिर थे कहा कि

ये भी तो बस (आख़िर) तुम्हारे ही सा आदमी है (मगर) इसकी तमन्ना ये है कि तुम पर बुर्जुगी हासिल करे

और अगर खुदा (पैग़म्बर ही न भेजना) चाहता तो फरिश्तों को नाज़िल करता

हम ने तो (भाई) ऐसी बात अपने अगले बाप दादाओं में (भी होती) नहीं सुनी

25.

हो न हों बस ये एक आदमी है जिसे जुनून हो गया है ग़रज़ तुम लोग एक (ख़ास) वक्त तक (इसके अन्जाम का) इन्तेज़ार देखो

26.

नूह ने (ये बातें सुनकर) दुआ की ऐ मेरे पलने वाले मेरी मदद कर इस वजह से कि उन लोगों ने मुझे झुठला दिया

27.

तो हमने नूह के पास 'वही' भेजी कि तुम हमारे सामने हमारे हुक्म के मुताबिक़ कश्ती बनाना शुरु करो

फिर जब कल हमारा अज़ाब आ जाए और तन्नूर (से पानी) उबलने लगे तो तुम उसमें हर किस्म (के जानवरों में) से (नर मादा) दो दो का जोड़ा बिठा लो

और अपने लड़के बालों को मगर उन में से जिसकी निस्बत (ग़रक़ होने का) पहले से हमारा हुक्म हो चुका है (उन्हें छोड़ दो)

और जिन लोगों ने (हमारे हुकम से) सरकशी की है उनके बारे में मुझसे कुछ कहना (सुनना) नहीं

क्योंकि ये लोग यकीनन डूबने वाले है

28.

ग़रज़ जब तुम अपने हमराहियों के साथ कश्ती पर दुरुस्त बैठो तो कहो

तमाम हम्दो सना की सज़ावार खुदा ही है जिसने हमको ज़ालिम लोगों से नजात दी

29.

और दुआ करो कि ऐ मेरे पालने वाले तू मुझको (दरख्त के पानी की) बा बरकत जगह में उतारना

और तू तो सब उतारने वालो से बेहतर है

30.

इसमें शक नहीं कि हसमें (हमारी क़ुदरत की) बहुत सी निशानियाँ हैं और हमको तो बस उनका इम्तिहान लेना मंज़ूर था

31.

फिर हमने उनके बाद एक और क़ौम को (समूद) को पैदा किया

32.

और हमने उनही में से (एक आदमी सालेह को) रसूल बनाकर उन लोगों में भेजा

(और उन्होंने अपनी क़ौम से कहा)

कि खुदा की इबादत करो उसके सिवा कोई तुम्हारा माबूद नहीं

तो क्या तुम उससे डरते नही हो

33.

और उनकी क़ौम के चन्द सरदारों ने जो काफिर थे और (रोज़) आख़िरत की हाज़िरी को भी झुठलाते थे और दुनिया की (चन्द रोज़ा) ज़िन्दगी में हमने उन्हें शहवत भी दे रखी थी आपस में कहने लगे

(अरे) ये तो बस तुम्हारा ही सा आदमी है

जो चीज़े तुम खाते वही ये भी खाता है और जो चीज़े तुम पीते हो उन्हीं में से ये भी पीता है

34.

और अगर कहीं तुम लोगों ने अपने ही से आदमी की इताअत कर ली तो तुम ज़रुर घाटे में रहोगे

35.

क्या ये शख्स तुमसे वायदा करता है कि जब तुम मर जाओगे और (मर कर) सिर्फ मिट्टी और हड्डियाँ (बनकर) रह जाओगे तो तुम दुबारा ज़िन्दा करके कब्रों से निकाले जाओगे

36.

(है है अरे) जिसका तुमसे वायदा किया जाता है बिल्कुल (अक्ल से) दूर और क़यास से बईद है

37.

(दो बार ज़िन्दा होना कैसा) बस यही तुम्हारी दुनिया की ज़िन्दगी है कि हम मरते भी हैं और जीते भी हैं

और हम तो फिर (दुबारा) उठाए नहीं जाएँगे

38.

हो न हो ये (सालेह) वह शख्स है जिसने खुदा पर झूठ मूठ बोहतान बाँधा है और हम तो कभी उस पर ईमान लाने वाले नहीं

39.

(ये हालत देखकर) सालेह ने दुआ की ऐ मेरे पालने वाले चूँकि इन लोगों ने मुझे झुठला दिया तू मेरी मदद कर

40.

ख़ुदा ने फरमाया (एक ज़रा ठहर जाओ) अनक़रीब ही ये लोग नादिम व परेशान हो जाएँगे

41.

ग़रज़ उन्हें यक़ीनन एक सख्त चिंघाड़ ने ले डाला तो हमने उन्हें कूडे क़रकट (का ढेर) बना छोड़ा

पस ज़ालिमों पर (खुदा की) लानत है

42.

फिर हमने उनके बाद दूसरी क़ौमों को पैदा किया

43.

कोई उम्मत अपने वक्त मुर्करर से न आगे बढ़ सकती है न (उससे) पीछे हट सकती है

44.

फिर हमने लगातार बहुत से पैग़म्बर भेजे

(मगर) जब जब किसी उम्मत का पैग़म्बर उन के पास आता तो ये लोग उसको झुठलाते थे

तो हम थी (आगे पीछे) एक को दूसरे के बाद (हलाक) करते गए और हमने उन्हें (नेस्त व नाबूद करके) अफसाना बना दिया

तो ईमान न लाने वालो पर ख़ुदा की लानत है

45.

फिर हमने मूसा और उनके भाई हारुन को अपनी निशानियों और वाज़ेए व रौशन दलील के साथ रसूल बना कर भेजा

46.

फिरऔन और उसके दरबार के उमराओ के पास

तो उन लोगो ने शेख़ी की और वह थे ही बड़े सरकश लोग

47.

आपस मे कहने लगे क्या हम अपने ही ऐसे दो आदमियों पर ईमान ले आएँ हालाँकि इन दोनों की (क़ौम की) क़ौम हमारी ख़िदमत गारी करती है

48.

गरज़ उन लोगों ने इन दोनों को झुठलाया तो आख़िर ये सब के सब हलाक कर डाले गए

49.

और हमने मूसा को किताब (तौरैत) इसलिए अता की थी कि ये लोग हिदायत पाएँ

50.

और हमने मरियम के बेटे (ईसा) और उनकी माँ को (अपनी कुदरत की निशानी बनाया था)

और उन दोनों को हमने एक ऊँची हमवार ठहरने के क़ाबिल चश्में वाली ज़मीन पर (रहने की) जगह दी

51.

और मेरा आम हुक्म था कि ऐ (मेरे पैग़म्बर) पाक व पाकीज़ा चीज़ें खाओ और अच्छे अच्छे काम करो

(क्योंकि) तुम जो कुछ करते हो मैं उससे बख़ूबी वाक़िफ हूँ

52.

(लोगों ये दीन इस्लाम) तुम सबका मज़हब एक ही मज़हब है

और मै तुम लोगों का परवरदिगार हूँ

53.

तो बस मुझी से डरते रहो फिर लोगों ने अपने काम (में एख़तिलाफ करके उस) को टुकड़े टुकड़े कर डाला

हर गिरो जो कुछ उसके पास है उसी में निहाल निहाल है

54.

तो (ऐ रसूल) तुम उन लोगों को उन की ग़फलत में एक ख़ास वक्त तक (पड़ा) छोड़ दो

55.

क्या ये लोग ये ख्याल करते है कि हम जो उन्हें माल और औलाद में तरक्क़ी दे रहे है

56.

तो हम उनके साथ भलाईयाँ करने में जल्दी कर रहे है

(ऐसा नहीं) बल्कि ये लोग समझते नहीं

57.

उसमें शक नहीं कि जो लोग अपने परवरदिगार की वहशत से लरज़ रहे है

58.

और जो लोग अपने परवरदिगार की (क़ुदरत की) निशानियों पर ईमान रखते हैं

59.

और अपने परवरदिगार का किसी को शरीक नही बनाते

60.

और जो लोग (ख़ुदा की राह में) जो कुछ बन पड़ता है देते हैं

और फिर उनके दिल को इस बात का खटका लगा हुआ है कि उन्हें अपने परवरदिगार के सामने लौट कर जाना है

61.

(देखिये क्या होता है) यही लोग अलबत्ता नेकियों में जल्दी करते हैं और भलाई की तरफ (दूसरों से) लपक के आगे बढ़ जाते हैं

62.

और हम तो किसी शख्स को उसकी क़ूवत से बढ़के तकलीफ देते ही नहीं

और हमारे पास तो (लोगों के आमाल की) किताब है जो बिल्कुल ठीक (हाल बताती है)

और उन लोगों की (ज़र्रा बराबर) हक़ तलफी नहीं की जाएगी

63.

उनके दिल उसकी तरफ से ग़फलत में पडे हैं

इसके अलावा उन के बहुत से आमाल हैं जिन्हें ये (बराबर किया करते है) और बाज़ नहीं आते

64.

यहाँ तक कि जब हम उनके मालदारों को अज़ाब में गिरफ््तार करेंगे तो ये लोग वावैला करने लगेंगें

65.

(उस वक्त क़हा जाएगा) आज वावैला मत करों

तुमको अब हमारी तरफ से मदद नहीं मिल सकती

66.

(जब) हमारी आयतें तुम्हारे सामने पढ़ी जाती थीं तो तुम अकड़ते किस्सा कहते बकते हुए उन से उलटे पाँव फिर जाते

67.

हाल यह था कि इसके कारण स्वयं को बड़ा समझते थे, उसे एक कहानी कहनेवाला ठहराकर छोड़ चलते थे

68.

तो क्या उन लोगों ने (हमारी) बात (कुरान) पर ग़ौर नहीं किया

उनके पास कोई ऐसी नयी चीज़ आयी जो उनके अगले बाप दादाओं के पास नहीं आयी थी

69.

या उन लोगों ने अपने रसूल ही को नहीं पहचाना तो इस वजह से इन्कार कर बैठे

70.

या कहते हैं कि इसको जुनून हो गया है

(हरगिज़ उसे जुनून नहीं)

बल्कि वह तो उनके पास हक़ बात लेकर आया है और उनमें के अक्सर हक़ बात से नफरत रखते हैं

71.

और अगर कहीं हक़ उनकी नफसियानी ख्वाहिश की पैरवी करता है तो सारे आसमान व ज़मीन और जो लोग उनमें हैं (सबके सब) बरबाद हो जाते

बल्कि हम तो उन्हीं के तज़किरे (जिबरील के वास्ते से) उनके पास लेकर आए तो यह लोग अपने ही तज़किरे से मुँह मोड़तें हैं

72.

( रसूल) क्या तुम उनसे (अपनी रिसालत की) कुछ उजरत माँगतें हों

तो तुम्हारे परवरदिगार की उजरत उससे कही बेहतर है

और वह तो सबसे बेहतर रोज़ी देने वाला है

73.

और तुम तो यक़ीनन उनको सीधी राह की तरफ बुलाते हो

74.

और इसमें शक नहीं कि जो लोग आख़िरत पर ईमान नहीं रखते वह सीधी राह से हटे हुए हैं

75.

और अगर हम उन पर तरस खायें और जो तकलीफें उनको (कुफ्र की वजह से) पहुँच रही हैं उन को दफा कर दें तो यक़ीनन ये लोग (और भी) अपनी सरकशी पर अड़ जाए और भटकते फिरें

76.

और हमने उनको अज़ाब में गिरफ्तार किया तो भी वे लोग न तो अपने परवरदिगार के सामने झुके और गिड़गिड़ाएँ

77.

यहाँ तक कि जब हमने उनके सामने एक सख्त अज़ाब का दरवाज़ा खोल दिया तो उस वक्त फ़ौरन ये लोग बेआस होकर बैठ रहे

78.

हालाँकि वही वह (मेहरबान खुदा) है जिसने तुम्हारे लिए कान और ऑंखें और दिल पैदा किये

(मगर) तुम लोग हो ही बहुत कम शुक्र करने वाले

79.

और वह वही (ख़ुदा) है जिसने तुम को रुए ज़मीन में (हर तरफ) फैला दिया

और फिर (एक दिन) सब के सब उसी के सामने इकट्ठे किये जाओगे

80.

और वही वह (ख़ुदा) है जो जिलाता और मारता है कि और रात दिन का फेर बदल भी उसी के एख्तियार में है

तो क्या तुम (इतना भी) नहीं समझते

81.

(इन बातों को समझें ख़ाक नहीं)

बल्कि जो अगले लोग कहते आए वैसी ही बात ये भी कहने लगे

82.

कि जब हम मर जाएँगें और (मरकर) मिट्टी (का ढ़ेर) और हड्डियाँ हो जाएँगें तो क्या हम फिर दोबारा (क्रबों से ज़िन्दा करके) निकाले जाएँगे

83.

इसका वायदा तो हमसे और हमसे पहले हमारे बाप दादाओं से भी (बार हा) किया जा चुका है

ये तो बस सिर्फ अगले लोगों के ढकोसले हैं

84.

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि भला अगर तुम लोग कुछ जानते हो (तो बताओ) ये ज़मीन और जो लोग इसमें हैं किस के हैं

85.

वह फौरन जवाब देगें ख़ुदा के

तुम कह दो कि तो क्या तुम अब भी ग़ौर न करोगे

86.

( रसूल) तुम उनसे पूछो तो कि सातों आसमानों का मालिक कौन है

और (इतने) बड़े अर्श का मालिक (कौन है)

87.

तो फौरन जवाब देगें कि (सब कुछ) खुदा ही का है

अब तुम कहो तो क्या तुम अब भी (उससे) नहीं डरोगे

88.

( रसूल) तुम उनसे पूछो कि भला अगर तुम कुछ जानते हो (तो बताओ) कि वह कौन शख्स है- जिसके एख्तेयार में हर चीज़ की बादशाहत है वह (जिसे चाहता है) पनाह देता है

और उस (के अज़ाब) से पनाह नहीं दी जा सकती

89.

तो ये लोग फौरन बोल उठेंगे कि (सब एख्तेयार) ख़ुदा ही को है-

अब तुम कह दो कि तुम पर जादू कहाँ किया जाता है

90.

बात ये है कि हमने उनके पास हक़ बात पहुँचा दी और ये लोग यक़ीनन झूठे हैं

91.

तो अल्लाह ने किसी को (अपना) बेटा बनाया है और न उसके साथ कोई और ख़ुदा है

(अगर ऐसा होता) उस वक्त हर खुदा अपने अपने मख़लूक़ को लिए लिए फिरता और यक़ीनन एक दूसरे पर चढ़ाई करता (और ख़ूब जंग होती)

जो जो बाते ये लोग (ख़ुदा की निस्बत) बयान करते हैं उस से ख़ुदा पाक व पाकीज़ा है

92.

वह पोशीदा और हाज़िर (सबसे) खुदा वाक़िफ है

ग़रज़ वह उनके शिर्क से (बिल्कुल पाक और) बालातर है

93.

(ऐ रसूल) तुम दुआ करो कि ऐ मेरे पालने वाले जिस (अज़ाब) का तूने उनसे वायदा किया है अगर शायद तू मुझे दिखाए

94.

तो परवरदिगार मुझे उन ज़ालिम लोगों के हमराह न करना

95.

और (ऐ रसूल) हम यक़ीनन इस पर क़ादिर हैं कि जिस (अज़ाब) का हम उनसे वायदा करते हैं तुम्हें दिखा दें

96.

और बुरी बात के जवाब में ऐसी बात कहो जो निहायत अच्छी हो

जो कुछ ये लोग (तुम्हारी निस्बत) बयान करते हैं उससे हम ख़ूब वाक़िफ हैं  

97.

और (ये भी) दुआ करो कि ऐ मेरे पालने वाले मै शैतान के वसवसों से तेरी पनाह माँगता हूँ

98.

और ऐ मेरे परवरदिगार इससे भी तेरी पनाह माँगता हूँ कि शयातीन मेरे पास आएँ

99.

(और कुफ्फ़ार तो मानेगें नहीं) यहाँ तक कि जब उनमें से किसी को मौत आयी तो कहने लगे परवरदिगार तू मुझे (एक बार) उस मुक़ाम (दुनिया) में छोड़ आया हूँ

100.

फिर वापस कर दे ताकि मै (अपकी दफ़ा) अच्छे अच्छे काम करूं

(जवाब दिया जाएगा) हरगिज़ नहीं

ये एक लग़ो बात है- जिसे वह बक रहा है

और उनके (मरने के) बाद (आलमे) बरज़ख़ है (जहाँ रहना होगा)  फिर  क़ब्रों से उठाए जाएँगें

101.

फिर जिस वक्त सूर फूँका जाएगा तो उस दिन न लोगों में क़राबत दारियाँ रहेगी और न एक दूसरे की बात पूछेंगे

102.

फिर जिन (के नेकियों) के पल्लें भारी होगें तो यही लोग कामयाब होंगे

103.

और जिन (के नेकियों) के पल्लें हल्के होंगे तो यही लोग है जिन्होंने अपना नुक़सान किया

कि हमेशा जहन्नुम में रहेंगे

104.

और (उनकी ये हालत होगी कि) जहन्नुम की आग उनके मुँह को झुलसा देगी और लोग मुँह बनाए हुए होगें

105.

(उस वक्त हम पूछेंगें) क्या तुम्हारे सामने मेरी आयतें न पढ़ी गयीं थीं

(ज़रुर पढ़ी गयी थीं) तो तुम उन्हें झुठलाया करते थे

106.

वह जवाब देगें ऐ हमारे परवरदिगार हमको हमारी कम्बख्ती ने आज़माया और हम गुमराह लोग थे

107.

परवरदिगार हमको (अबकी दफा) किसी तरह इस जहन्नुम से निकाल दे

फिर अगर दोबारा हम ऐसा करें तो अलबत्ता हम कुसूरवार हैं

108.

ख़ुदा फरमाएगा दूर हो इसी में (तुम को रहना होगा) और (बस) मुझ से बात न करो

109.

मेरे बन्दों में से एक गिरोह ऐसा भी था जो (बराबर) ये दुआ करता था कि

ऐ हमारे पालने वाले हम ईमान लाए तो तू हमको बख्श दे और हम पर रहम कर

तू तो तमाम रहम करने वालों से बेहतर है

110.

तो तुम लोगों ने उन्हें मसखरा बना लिया-यहाँ तक कि (गोया) उन लोगों ने तुम से मेरी याद भुला दी

और तुम उन पर (बराबर) हँसते रहे

111.

मैने आज उनको उनके सब्र का अच्छा बदला दिया कि यही लोग अपनी (ख़ातिरख्वाह) मुराद को पहुँचने वाले हैं

112.

(फिर उनसे) ख़ुदा पूछेगा कि (आख़िर) तुम ज़मीन पर कितने बरस रहे

113.

वह कहेंगें (बरस कैसा) हम तो बस पूरा एक दिन रहे या एक दिन से भी कम

तो तुम शुमार करने वालों से पूछ लो

114.

ख़ुदा फरमाएगा बेशक तुम (ज़मीन में) बहुत ही कम ठहरे

काश तुम (इतनी बात भी दुनिया में) समझे होते

115.

तो क्या तुम ये ख्याल करते हो कि हमने तुमको (यूँ ही) बेकार पैदा किया

और ये कि तुम हमारे हुज़ूर में लौटा कर न लाए जाओगे

116.

तो ख़ुदा जो सच्चा बादशाह (हर चीज़ से) बरतर व आला है

उसके सिवा कोई माबूद नहीं (वहीं) अर्श बुर्जुग़ का मालिक है

117.

और जो शख्स ख़ुदा के साथ दूसरे माबूद की भी परसतिश करेगा उसके पास इस शिर्क की कोई दलील तो है नहीं तो बस उसका हिसाब (किताब) उसके परवरदिगार ही के पास होगा

मगर याद रहे कि कुफ्फ़ार हरगिज़ फलॉह पाने वाले नहीं

118.

और (ऐ रसूल) तुम कह दो परवरदिगार तू (मेरी उम्मत को) बख्श दे और तरस खा

और तू तो सब रहम करने वालों से बेहतर है

*********

Copy Rights:

Zahid Javed Rana, Abid Javed Rana, Lahore, Pakistan

Visits wef 2016