कुरान हाकिम (हिंदी अनुवाद)

Surah Al Rome

Previous         Index         Next

 

1.

अलिफ़ लाम मीम

2.

रोमी (नसारा अहले फ़ारस आतिश परस्तों से) हार गए

3.

(यहाँ से) बहुत क़रीब के मुल्क में मगर ये लोग अनक़रीब ही अपने हार जाने के बाद चन्द सालों में फिर (अहले फ़ारस पर) ग़ालिब आ जाएँगे

4.

चन्द सालों में

क्योंकि (इससे) पहले और बाद (ग़रज़ हर ज़माने में) हर अम्र का एख्तेयार ख़ुदा ही को है

और उस दिन ईमानदार लोग खुश हो जाएँगे

5.

ख़ुदा की मदद से

वह जिसकी चाहता है मदद करता है

और वह (सब पर) ग़ालिब रहम करने वाला है

6.

(ये) ख़ुदा का वायदा है

ख़ुदा अपने वायदे के ख़िलाफ नहीं किया करता

मगर अकसर लोग नहीं जानते हैं

7.

ये लोग बस दुनियावी ज़िन्दगी की ज़ाहिरी हालत को जानते हैं और ये लोग आखेरत से बिल्कुल ग़ाफिल हैं

8.

क्या उन लोगों ने अपने दिल में (इतना भी) ग़ौर नहीं किया कि

ख़ुदा ने सारे आसमान और ज़मीन को और जो चीजे उन दोनों के दरमेयान में हैं बस बिल्कुल ठीक और एक मुक़र्रर मियाद के वास्ते पैदा किया है

और कुछ शक नहीं कि बहुतेरे लोग तो अपने परवरदिगार की (बारगाह) के हुज़ूर में (क़यामत) ही को किसी तरह नहीं मानते

9.

क्या ये लोग ज़मीन पर चले फिरे नहीं कि देखते

कि जो लोग इनसे पहले गुज़र गए उनका अन्जाम कैसा (बुरा) हुआ

हालॉकि जो लोग उनसे पहले क़ूवत में भी कहीं ज्यादा थे

और जिस क़दर ज़मीन उन लोगों ने आबाद की है उससे कहीं ज्यादा (ज़मीन की) उन लोगों ने काश्त भी की थी और उसको आबाद भी किया था

और उनके पास भी उनके पैग़म्बर वाज़ेए व रौशन मौजिज़े लेकर आ चुके थे

(मगर उन लोगों ने न माना)

तो ख़ुदा ने उन पर कोई ज़ुल्म नहीं किया मगर वह लोग (कुफ्र व सरकशी से) आप अपने ऊपर ज़ुल्म करते रहे

10.

फिर जिन लोगों ने बुराई की थी उनका अन्जाम बुरा ही हुआ

क्योंकि उन लोगों ने ख़ुदा की आयतों को झुठलाया था और उनके साथ मसखरा पन किया किए

11.

ख़ुदा ही ने मख़लूकात को पहली बार पैदा किया फिर वही दुबारा (पैदा करेगा)

फिर तुम सब लोग उसी की तरफ लौटाए जाओगे

12.

और जिस दिन क़यामत बरपा होगी (उस दिन) गुनेहगार लोग ना उम्मीद होकर रह जाएँगे

13.

और उनके (बनाए हुए ख़ुदा के) शरीकों में से कोई उनका सिफारिशी न होगा

और ये लोग खुद भी अपने शरीकों से इन्कार कर जाएँगे

14.

और जिस दिन क़यामत बरपा होगी उस दिन (मोमिनों से) कुफ्फ़ार जुदा हो जाएँगें

15.

फिर जिन लोगों ने ईमान क़ुबूल किया और अच्छे अच्छे काम किए तो वह बाग़े बेहश्त में निहाल कर दिए जाएँगे

16.

मगर जिन लोगों के कुफ्र एख्तेयार किया और हमारी आयतों और आखेरत की हुज़ूरी को झुठलाया तो ये लोग अज़ाब में गिरफ्तार किए जाएँगे

17.

फिर जिस वक्त तुम लोगों की शाम हो और जिस वक्त तुम्हारी सुबह हो ख़ुदा की पाकीज़गी ज़ाहिर करो

18.

और सारे आसमान व ज़मीन में वही क़ाबिले तारीफ़ है

तीसरे पहर को और जिस वक्त तुम लोगों की दोपहर हो जाए

19.

वही ज़िन्दा को मुर्दे से निकालता है और वही मुर्दे को जिन्दा से पैदा करता है

और ज़मीन को मरने (परती होने) के बाद ज़िन्दा (आबाद) करता है

और इसी तरह तुम लोग भी (मरने के बाद निकाले जाओगे)

20.

और उस (की कुदरत) की निशानियों में ये भी है कि उसने तुमको मिट्टी से पैदा किया

फिर यकायक तुम आदमी बनकर (ज़मीन पर) चलने फिरने लगे

21.

और उसी की (क़ुदरत) की निशानियों में से एक ये (भी) है कि उसने तुम्हारे वास्ते तुम्हारी ही जिन्स की बीवियाँ पैदा की ताकि तुम उनके साथ रहकर चैन करो

और तुम लोगों के दरमेयान प्यार और उलफ़त पैदा कर दी

इसमें शक नहीं कि इसमें ग़ौर करने वालों के वास्ते (क़ुदरते ख़ुदा की) यक़ीनी बहुत सी निशानियाँ हैं

22.

और उस (की कुदरत) की निशानियों में आसमानो और ज़मीन का पैदा करना

और तुम्हारी ज़बानो और रंगतो का एख़तेलाफ भी है

यकीनन इसमें वाक़िफकारों के लिए बहुत सी निशानियाँ हैं

23.

और रात और दिन को तुम्हारा सोना और उसके फज़ल व करम (रोज़ी) की तलाश करना भी उसकी (क़ुदरत की) निशानियों से है

बेशक जो लोग सुनते हैं उनके लिए इसमें (क़ुदरते ख़ुदा की) बहुत सी निशानियाँ हैं  

24.

और उसी की (क़ुदरत की) निशानियों में से एक ये भी है कि वह तुमको डराने वाला उम्मीद लाने के वास्ते बिजली दिखाता है और आसमान से पानी बरसाता है

और उसके ज़रिए से ज़मीन को उसके परती होने के बाद आबाद करता है

बेशक अक्लमंदों के वास्ते इसमें (क़ुदरते ख़ुदा की) बहुत सी दलीलें हैं  

25.

और उसी की (क़ुदरत की) निशानियों में से एक ये भी है कि आसमान और ज़मीन उसके हुक्म से क़ायम हैं

फिर (मरने के बाद) जिस वक्त तुमको एक बार बुलाएगा तो तुम सबके सब ज़मीन से (ज़िन्दा हो होकर) निकल पड़ोगे

26.

और जो लोग आसमानों में है सब उसी के है

और सब उसी के ताबेए फरमान हैं

27.

और वह ऐसा (क़ादिरे मुत्तालिक़) है जो मख़लूकात को पहली बार पैदा करता है फिर दोबारा (क़यामत के दिन) पैदा करेगा

और ये उस पर बहुत आसान है

और सारे आसमान व जमीन सबसे बालातर उसी की शान है

और वही (सब पर) ग़ालिब हिकमत वाला है

28.

और हमने (तुम्हारे समझाने के वास्ते) तुम्हारी ही एक मिसाल बयान की है

हमने जो कुछ तुम्हे अता किया है क्या उसमें तुम्हारी लौन्डी गुलामों में से कोई (भी) तुम्हारा शरीक है

कि (वह और) तुम उसमें बराबर हो जाओ

(और क्या) तुम उनसे ऐसा ही ख़ौफ रखते हो जितना तुम्हें अपने लोगों का (हक़ हिस्सा न देने में) ख़ौफ होता है

(फिर बन्दों को खुदा का शरीक क्यों बनाते हो)

अक्ल मन्दों के वास्ते हम यूँ अपनी आयतों को तफसीलदार बयान करते हैं

29.

मगर सरकशों ने तो बगैर समझे बूझे अपनी नफसियानी ख्वाहिशों की पैरवी कर ली

(और ख़ुदा का शरीक ठहरा दिया)

ग़रज़ ख़ुदा जिसे गुमराही में छोड़ दे (फिर) उसे कौन राहे रास्त पर ला सकता है

और उनका कोई मददगार (भी) नहीं

30.

तो (ऐ रसूल) तुम बातिल से कतरा के अपना रुख़ दीन की तरफ किए रहो

यही ख़ुदा की बनावट है जिस पर उसने लोगों को पैदा किया है

ख़ुदा की (दुरुस्त की हुई) बनावट में तग़य्युर तबद्दुल (उलट फेर) नहीं हो सकता

यही मज़बूत और (बिल्कुल सीधा) दीन है मगर बहुत से लोग नहीं जानते हैं

31.

उसी की तरफ रुजू होकर (ख़ुदा की इबादत करो) और उसी से डरते रहो और पाबन्दी से नमाज़ पढ़ो

और मुशरेकीन से न हो जाना

32.

जिन्होंने अपने (असली) दीन में तफरेक़ा परवाज़ी की और मुख्तलिफ़ फिरके क़े बन गए

जो (दीन) जिस फिरके क़े पास है उसी में निहाल है

33.

और जब लोगों को कोई मुसीबत छू भी गयी तो उसी की तरफ रुजू होकर अपने परवरदिगार को पुकारने लगते हैं

फिर जब वह अपनी रहमत की लज्ज़त चखा देता है तो उन्हीं में से कुछ लोग अपने परवरदिगार के साथ शिर्क करने लगते हैं

34.

ताकि जो (नेअमत) हमने उन्हें दी है उसकी नाशुक्री करें

ख़ैर (दुनिया में चन्दरोज़ चैन कर लो) फिर तो बहुत जल्द (अपने किए का मज़ा) तुम्हे मालूम ही होगा

35.

क्या हमने उन लोगों पर कोई दलील नाज़िल की है जो उस (के हक़ होने) को बयान करती है जिसे ये लोग ख़ुदा का शरीक ठहराते हैं

(हरग़िज नहीं)

36.

और जब हमने लोगों को (अपनी रहमत की लज्ज़त) चखा दी तो वह उससे खुश हो गए

और जब उन्हें अपने हाथों की अगली कारसतानियो की बदौलत कोई मुसीबत पहुँची तो यकबारगी मायूस होकर बैठे रहते हैं  

37.

क्या उन लोगों ने (इतना भी) ग़ौर नहीं किया कि खुदा ही जिसकी रोज़ी चाहता है कुशादा कर देता है और (जिसकी चाहता है) तंग करता है-

कुछ शक नहीं कि इसमें ईमानरदार लोगों के वास्ते (कुदरत ख़ुदा की) बहुत सी निशानियाँ हैं

38.

(तो ऐ रसूल अपनी) क़राबतदार (फातिमा ज़हरा) का हक़ फिदक दे दो और मोहताज व परदेसियों का (भी)

जो लोग ख़ुदा की ख़ुशनूदी के ख्वाहॉ हैं उन के हक़ में सब से बेहतर यही है

और ऐसे ही लोग आखेरत में दिली मुरादे पाएँगें  

39.

और तुम लोग जो सूद देते हो ताकि लोगों के माल (दौलत) में तरक्क़ी हो तो (याद रहे कि ऐसा माल) ख़ुदा के यहॉ फूलता फलता नही

और तुम लोग जो ख़ुदा की ख़ुशनूदी के इरादे से ज़कात देते हो तो

ऐसे ही लोग (ख़ुदा की बारगाह से) दूना दून लेने वाले हैं

40.

ख़ुदा वह (क़ादिर तवाना है) जिसने तुमको पैदा किया फिर उसी ने रोज़ी दी

फिर वही तुमको मार डालेगा फिर वही तुमको (दोबारा) ज़िन्दा करेगा

भला तुम्हारे (बनाए हुए ख़ुदा के) शरीकों में से कोई भी ऐसा है जो इन कामों में से कुछ भी कर सके

जिसे ये लोग (उसका) शरीक बनाते हैं वह उससे पाक व पाकीज़ा और बरतर है

41.

खुद लोगों ही के अपने हाथों की कारस्तानियों की बदौलत ख़ुश्क व तर में फसाद फैल गया

ताकि जो कुछ ये लोग कर चुके हैं ख़ुदा उन को उनमें से बाज़ करतूतों का मज़ा चखा दे ताकि ये लोग अब भी बाज़ आएँ

42.

( रसूल) तुम कह दो कि ज़रा रुए ज़मीन पर चल फिरकर देखो तो कि जो लोग उसके क़ब्ल गुज़र गए उनके (अफ़आल) का अंजाम क्या हुआ

उनमें से बहुतेरे तो मुशरिक ही हैं

43.

तो (ऐ रसूल) तुम उस दिन के आने से पहले जो खुदा की तरफ से आकर रहेगा (और) कोई उसे रोक नहीं सकता अपना रुख़ मज़बूत और सीधे दीन की तरफ किए रहो

उस दिन लोग (परेशान होकर) अलग अलग हो जाएँगें

44.

जो काफ़िर बन बैठा उस पर उस के कुफ्र का वबाल है

और जिन्होने अच्छे काम किए वह अपने ही आसाइश का सामान कर रहें है

45.

ताकि जो लोग ईमान लाए और अच्छे अच्छे काम किए उनको ख़ुदा अपने फज़ल व (करम) से अच्छी जज़ा अता करेगा

वह यक़ीनन कुफ्फ़ार से उलफ़त नहीं रखता

46.

उसी की (क़ुदरत) की निशानियों में से एक ये भी है कि वह हवाओं को (बारिश) की ख़ुशख़बरी के वास्ते (क़ब्ल से) भेज दिया करता है

और ताकि तुम्हें अपनी रहमत की लज्ज़त चखाए

और इसलिए भी कि (इसकी बदौलत) कश्तियां उसके हुक्म से चल खड़ी हो और ताकि तुम उसके फज़ल व करम से (अपनी रोज़ी) की तलाश करो

और इसलिए भी ताकि तुम शुक्र करो

47.

(ऐ रसूल) हमने तुमसे पहले और भी बहुत से पैग़म्बर उनकी क़ौमों के पास भेजे तो वह पैग़म्बर वाज़ेए व रौशन लेकर आए

(मगर उन लोगों ने न माना)

तो उन मुजरिमों से हमने (खूब) बदला लिया

और हम पर तो मोमिनीन की मदद करना लाज़िम था ही

48.

ख़ुदा ही (क़ादिर तवाना) है जो हवाओं को भेजता है तो वह बादलों को उड़ाए उड़ाए फिरती हैं

फिर वही ख़ुदा बादल को जिस तरह चाहता है आसमान में फैला देता है और (कभी) उसको टुकड़े (टुकड़े) कर देता है

फिर तुम देखते हो कि बूँदियां उसके दरमियान से निकल पड़ती हैं

फिर जब ख़ुदा उन्हें अपने बन्दों में से जिस पर चहता है बरसा देता है तो वह लोग खुशियाँ मनाने लगते हैं

49.

अगरचे ये लोग उन पर (बाराने रहमत) नाज़िल होने से पहले (बारिश से) शुरु ही से बिल्कुल मायूस (और मज़बूर) थे

50.

ग़रज़ ख़ुदा की रहमत के आसार की तरफ देखो तो कि वह क्योंकर ज़मीन को उसकी परती होने के बाद आबाद करता है

बेशक यक़ीनी वही मुर्दो को ज़िन्दा करने वाला है

और वही हर चीज़ पर क़ादिर है

51.

और अगर हम (खेती की नुकसान देह) हवा भेजें फिर लोग खेती को (उसी हवा की वजह से) ज़र्द (परस मुर्दा) देखें तो वह लोग इसके बाद (फौरन) नाशुक्री करने लगें

52.

(ऐ रसूल) तुम तो (अपनी) आवाज़ न मुर्दो ही को सुना सकते हो और न बहरों को सुना सकते हो (ख़ुसूसन) जब वह पीठ फेरकर चले जाएँ

53.

और न तुम अंधों को उनकी गुमराही से (फेरकर) राह पर ला सकते हो

तो तुम तो बस उन्हीं लोगों को सुना (समझा) सकते हो जो हमारी आयतों को दिल से मानें फिर यही लोग इस्लाम लाने वाले हैं

54.

खुदा ही तो है जिसने तुम्हें (एक निहायत) कमज़ोर चीज़ (नुत्फे) से पैदा किया फिर उसी ने (तुम में) बचपने की कमज़ोरी के बाद (शबाब की) क़ूवत अता की

फिर उसी ने (तुममें जवानी की) क़ूवत के बाद कमज़ोरी और बुढ़ापा पैदा कर दिया

वह जो चाहता पैदा करता है-

और वही बड़ा वाकिफकार और (हर चीज़ पर) क़ाबू रखता है

55.

और जिस दिन क़यामत बरपा होगी तो गुनाहगार लोग कसमें खाएँगें कि वह (दुनिया में) घड़ी भर से ज्यादा नहीं ठहरे

यूँ ही लोग (दुनिया में भी) इफ़तेरा परदाज़ियाँ करते रहे

56.

और जिन लोगों को (ख़ुदा की बारगाह से) इल्म और ईमान दिया गया है जवाब देगें कि

(हाए) तुम तो ख़ुदा की किताब के मुताबिक़ रोज़े क़यामत तक (बराबर) ठहरे रहे

फिर ये तो क़यामत का ही दिन है मगर तुम लोग तो उसका यक़ीन ही न रखते थे

57.

तो उस दिन सरकश लोगों को न उनकी उज्र माअज़ेरत कुछ काम आएगी और न उनकी सुनवाई होगी

58.

और हमने तो इस कुरान में (लोगों के समझाने को) हर तरह की मिसल बयान कर दी

और अगर तुम उनके पास कोई सा मौजिज़ा ले आओ तो भी यक़ीनन कुफ्फ़ार यही बोल उठेंगे कि तुम लोग निरे दग़ाबाज़ हो

59.

जो लोग समझ (और इल्म) नहीं रखते उनके दिलों पर नज़र करके ख़ुदा यू तसदीक़ करता है (कि ये ईमान न लाएँगें)

60.

तो (ऐ रसूल) तुम सब्र करो बेशक ख़ुदा का वायदा सच्चा है

और (कहीं) ऐसा न हो कि जो (तुम्हारी) तसदीक़ नहीं करते तुम्हें (बहका कर) ख़फ़ीफ़ करे दें

*********

Copy Rights:

Zahid Javed Rana, Abid Javed Rana, Lahore, Pakistan

Visits wef 2016