कुरान हाकिम (हिंदी अनुवाद)

Surah Al Zumar

Previous         Index         Next

 

1.

(इस) किताब (क़ुरान) का नाज़िल करना उस खुदा की बारगाह से है जो (सब पर) ग़ालिब हिकमत वाला है

2.

(ऐ रसूल) हमने किताब (कुरान) को बिल्कुल ठीक नाज़िल किया है

तो तुम इबादत को उसी के लिए निरा खुरा करके खुदा की बन्दगी किया करो

3.

आगाह रहो कि इबादत तो ख़ास खुदा ही के लिए है

और जिन लोगों ने खुदा के सिवा (औरों को अपना) सरपरस्त बना रखा है और कहते हैं कि हम तो उनकी परसतिश सिर्फ़ इसलिए करते हैं कि ये लोग खुदा की बारगाह में हमारा तक़र्रब बढ़ा देगें

इसमें शक नहीं कि जिस बात में ये लोग झगड़ते हैं (क़यामत के दिन) खुदा उनके दरमियान इसमें फैसला कर देगा

बेशक खुदा झूठे नाशुक्रे को मंज़िले मक़सूद तक नहीं पहुँचाया करता

4.

अगर खुदा किसी को (अपना) बेटा बनाना चाहता तो अपने मख़लूक़ात में से जिसे चाहता मुन्तखिब कर लेता

(मगर) वह तो उससे पाक व पाकीज़ा है

वह तो यकता बड़ा ज़बरदस्त अल्लाह है

5.

उसी ने सारे आसमान और ज़मीन को बजा (दुरूस्त) पैदा किया

वही रात को दिन पर ऊपर तले लपेटता है और वही दिन को रात पर तह ब तह लपेटता है

और उसी ने आफताब और महताब को अपने बस में कर लिया है

कि ये सबके सब अपने (अपने) मुक़रर्र वक्त चलते रहेगें

आगाह रहो कि वही ग़ालिब बड़ा बख्शने वाला है

6.

उसी ने तुम सबको एक ही शख्स से पैदा किया फिर उस (की बाक़ी मिट्टी) से उसकी बीबी (हौव्वा) को पैदा किया

और उसी ने तुम्हारे लिए आठ क़िस्म के चारपाए पैदा किए

वही तुमको तुम्हारी माँओं के पेट में एक क़िस्म की पैदाइश के बाद दूसरी क़िस्म (नुत्फे जमा हुआ खून लोथड़ा) की पैदाइश से तेहरे तेहरे अंधेरों (पेट) रहम और झिल्ली में पैदा करता है

वही अल्लाह तुम्हारा परवरदिगार है उसी की बादशाही है

उसके सिवा माबूद नहीं

तो तुम लोग कहाँ फिरे जाते हो  

7.

अगर तुमने उसकी नाशुक्री की तो (याद रखो कि) खुदा तुमसे बिल्कुल बेपरवाह है

और अपने बन्दों से कुफ्र और नाशुक्री को पसन्द नहीं करता

और अगर तुम शुक्र करोगे तो वह उसको तुम्हारे वास्ते पसन्द करता है

और (क़यामत में) कोई किसी (के गुनाह) का बोझ (अपनी गर्दन पर) नहीं उठाएगा

फिर तुमको अपने परवरदिगार की तरफ लौटना है तो (दुनिया में) जो कुछ (भला बुरा) करते थे वह तुम्हें बता देगा

वह यक़ीनन दिलों के राज़ (तक) से खूब वाक़िफ है  

8.

और आदमी (की हालत तो ये है कि) जब उसको कोई तकलीफ पहुँचती है तो उसी की तरफ रूजू करके अपने परवरदिगार से दुआ करता है

(मगर) फिर जब खुदा अपनी तरफ से उसे नेअमत अता फ़रमा देता है तो जिस काम के लिए पहले उससे दुआ करता था उसे भुला देता है

और बल्कि खुदा का शरीक बनाने लगता है ताकि (उस ज़रिए से और लोगों को भी) उसकी राह से गुमराह कर दे

(ऐ रसूल ऐसे शख्स से) कह दो कि थोड़े दिनों और अपने कुफ्र (की हालत) में चैन कर लो (आख़िर) तू यक़ीनी जहन्नुमियों में होगा

9.

क्या जो शख्स रात के अवक़ात में सजदा करके और खड़े-खड़े (खुदा की) इबादत करता हो और आख़ेरत से डरता हो अपने परवरदिगार की रहमत का उम्मीदवार हो (नाशुक्रे) काफिर के बराबर हो सकता है

(ऐ रसूल) तुम पूछो तो कि भला कहीं जानने वाले और न जाननेवाले लोग बराबर हो सकते हैं

(मगर) नसीहत इबरतें तो बस अक्लमन्द ही लोग मानते हैं

10.

( रसूल) तुम कह दो कि ऐ मेरे ईमानदार बन्दों अपने परवरदिगार (ही) से डरते रहो

(क्योंकि) जिन लोगों ने इस दुनिया में नेकी की उन्हीं के लिए (आख़ेरत में) भलाई है और खुदा की ज़मीन तो कुशादा है (जहाँ इबादत न कर सको उसे छोड़ दो)

सब्र करने वालों ही की तो उनका भरपूर बेहिसाब बदला दिया जाएगा

11.

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि मुझे तो ये हुक्म दिया गया है कि मैं इबादत को उसके लिए ख़ास करके खुदा ही की बन्दगी करो

12.

और मुझे तो ये हुक्म दिया गया है कि मैं सबसे पहल मुसलमान हूँ

13.

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि अगर मैं अपने परवरदिगार की नाफरमानी करूँ तो मैं एक बड़ी (सख्त) दिन (क़यामत) के अज़ाब से डरता हूँ

14.

( रसूल) तुम कह दो कि मैं अपनी इबादत को उसी के वास्ते ख़ालिस करके खुदा ही की बन्दगी करता हूँ

15.

(अब रहे तुम) तो उसके सिवा जिसको चाहो पूजो

( रसूल) तुम कह दो कि फिल हक़ीक़त घाटे में वही लोग हैं जिन्होंने अपना और अपने लड़के वालों का क़यामत के दिन घाटा किया

आगाह रहो कि सरीही (खुल्लम खुल्ला) घाटा यही है

16.

कि उनके लिए उनके ऊपर से आग ही के ओढ़ने होगें और उनके नीचे भी (आग ही के) बिछौने

ये वह अज़ाब है जिससे खुदा अपने बन्दों को डराता है

तो ऐ मेरे बन्दों मुझी से डरते रहो

17.

और जो लोग बुतों से उनके पूजने से बचे रहे और ख़ुदा ही की तरफ रूजु की उनके लिए (जन्नत की) ख़ुशख़बरी है

तो (ऐ रसूल) तुम मेरे (ख़ास) बन्दों को खुशख़बरी दे दो

18.

जो बात को जी लगाकर सुनते हैं और फिर उसमें से अच्छी बात पर अमल करते हैं

यही वह लोग हैं जिनकी खुदा ने हिदायत की

और यही लोग अक्लमन्द हैं

19.

तो (ऐ रसूल) भला जिस शख्स पर अज़ाब का वायदा पूरा हो चुका हो तो क्या तुम उस शख्स की ख़लासी दे सकते हो जो आग में (पड़ा) हो

20.

मगर जो लोग अपने परवरदिगार से डरते रहे उनके ऊँचे-ऊँचे महल हैं

(और) बाला ख़ानों पर बालाख़ाने बने हुए हैं जिनके नीचे नहरें जारी हैं

ये खुदा का वायदा है

(और) वायदा ख़िलाफी नहीं किया करता

21.

क्या तुमने इस पर ग़ौर नहीं किया कि खुदा ही ने आसमान से पानी बरसाया फिर उसको ज़मीन में चश्में बनाकर जारी किया

फिर उसके ज़रिए से रंग बिरंग (के गल्ले) की खेती उगाता है

फिर (पकने के बाद) सूख जाती है तो तुम को वह ज़र्द दिखायी देती है फिर खुदा उसे चूर-चूर भूसा कर देता है

बेशक इसमें अक्लमन्दों के लिए (बड़ी) इबरत व नसीहत है

22.

तो क्या वह शख्स जिस के सीने को खुदा ने (क़ुबूल) इस्लाम के लिए कुशादा कर दिया है तो वह अपने परवरदिगार (की हिदायत) की रौशनी पर (चलता) है मगर गुमराहों के बराबर हो सकता है

अफसोस तो उन लोगों पर है जिनके दिल खुदा की याद से (ग़ाफ़िल होकर) सख्त हो गए हैं

ये लोग सरीही गुमराही में (पड़े) हैं

23.

ख़ुदा ने बहुत ही अच्छा कलाम (यावी ये) किताब नाज़िल फरमाई (जिसकी आयतें) एक दूसरे से मिलती जुलती हैं और (एक बात कई-कई बार) दोहराई गयी है

उसके सुनने से उन लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं जो अपने परवरदिगार से डरते हैं

फिर उनके जिस्म नरम हो जाते हैं और उनके दिल खुदा की याद की तरफ बा इतमेनान मुतावज्जे हो जाते हैं

ये खुदा की हिदायत है इसी से जिसकी चाहता है हिदायत करता है

और खुदा जिसको गुमराही में छोड़ दे तो उसको कोई राह पर लाने वाला नहीं

24.

तो क्या जो शख्स क़यामत के दिन अपने मुँह को बड़े अज़ाब की सिपर बनाएगा (नाज़ी के बराबर हो सकता है)

और ज़ालिमों से कहा जाएगा कि तुम (दुनिया में) जैसा कुछ करते थे अब उसके मज़े चखो

25.

जो लोग उनसे पहले गुज़र गए उन्होंने भी (पैग़म्बरों को) झुठलाया

तो उन पर अज़ाब इस तरह आ पहुँचा कि उन्हें ख़बर भी न हुई

26.

तो खुदा ने उन्हें (इसी) दुनिया की ज़िन्दगी में रूसवाई की लज्ज़त चखा दी

और आख़ेरत का अज़ाब तो यक़ीनी उससे कहीं बढ़कर है

काश ये लोग ये बात जानते

27.

और हमने तो इस क़ुरान में लोगों के (समझाने के) वास्ते हर तरह की मिसाल बयान कर दी है ताकि ये लोग नसीहत हासिल करें

28.

(हम ने तो साफ और सलीस) एक अरबी कुरान (नाज़िल किया) जिसमें ज़रा भी कजी (पेचीदगी) नहीं ताकि ये लोग (समझकर) खुदा से डरे

29.

ख़ुदा ने एक मिसाल बयान की है

कि एक शख्स (ग़ुलाम) है जिसमें कई झगड़ालू साझी हैं

और एक ज़ालिम है कि पूरा एक शख्स का है उन दोनों की हालत यकसाँ हो सकती हैं

(हरगिज़ नहीं)

अल्हमदोलिल्लाह

मगर उनमें अक्सर इतना भी नहीं जानते

30.

(ऐ रसूल) बेशक तुम भी मरने वाले हो और ये लोग भी यक़ीनन मरने वाले हैं

31.

फिर तुम लोग क़यामत के दिन अपने परवरदिगार की बारगाह में बाहम झगड़ोगे

32.

तो इससे बढ़कर ज़ालिम कौन होगा जो ख़ुदा पर झूठ (तूफान) बाँधे

और जब उसके पास सच्ची बात आए तो उसको झुठला दे

क्या जहन्नुम में काफिरों का ठिकाना नहीं है

33.

(ज़रूर है) और याद रखो कि जो शख्स (रसूल) सच्ची बात लेकर आया वह और जिसने उसकी तसदीक़ की यही लोग तो परहेज़गार हैं

34.

ये लोग जो चाहेंगे उनके लिए परवर दिगार के पास (मौजूद) है,

ये नेकी करने वालों की जज़ाए ख़ैर है

35.

ताकि ख़ुदा उन लोगों की बुराइयों को जो उन्होने की हैं दूर कर दे

और उनके अच्छे कामों के एवज़ जो वह कर चुके थे उसका अज्र (सवाब) अता फरमाए

36.

क्या ख़ुदा अपने बन्दों (की मदद) के लिए काफ़ी नहीं है

(ज़रूर है)

और (ऐ रसूल) तुमको लोग ख़ुदा के सिवा (दूसरे माबूदों) से डराते हैं

और ख़ुदा जिसे गुमराही में छोड़ दे तो उसका कोई राह पर लाने वाला नहीं है

37.

और जिस शख्स की हिदायत करे तो उसका कोई गुमराह करने वाला नहीं।

क्या ख़दा ज़बरदस्त और बदला लेने वाला नहीं है

(ज़रूर है)

38.

और (ऐ रसूल) अगर तुम इनसे पूछो कि सारे आसमान व ज़मीन को किसने पैदा किया तो ये लोग यक़ीनन कहेंगे कि ख़ुदा ने,

तुम कह दो कि तो क्या तुमने ग़ौर किया है कि ख़ुदा को छोड़ कर जिन लोगों की तुम इबादत करते हो अगर ख़ुदा मुझे कोई तक़लीफ पहुँचाना चाहे तो क्या वह लोग उसके नुक़सान को (मुझसे) रोक सकते हैं

या अगर ख़ुदा मुझ पर मेहरबानी करना चाहे तो क्या वह लोग उसकी मेहरबानी रोक सकते हैं

(ऐ रसूल) तुम कहो कि ख़ुदा मेरे लिए काफ़ी है

उसी पर भरोसा करने वाले भरोसा करते हैं

39.

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि ऐ मेरी क़ौम तुम अपनी जगह (जो चाहो) अमल किए जाओ मै भी (अपनी जगह) कुछ कर रहा हूँ,

फिर अनक़रीब ही तुम्हें मालूम हो जाएगा

40.

कि किस पर वह आफत आती है जो उसको (दुनिया में) रूसवा कर देगी और (आख़िर में) उस पर दायमी अज़ाब भी नाज़िल होगा

41.

( रसूल) हमने तुम्हारे पास (ये) किताब (क़ुरान) सच्चाई के साथ लोगों (की हिदायत) के वास्ते नाज़िल की है,

पस जो राह पर आया तो अपने ही (भले के) लिए और जो गुमराह हुआ तो उसकी गुमराही का वबाल भी उसी पर है

और फिर तुम कुछ उनके ज़िम्मेदार तो हो नहीं

42.

ख़ुदा ही लोगों के मरने के वक्त उनकी रूहें (अपनी तरफ़) खींच बुलाता है और जो लोग नहीं मरे (उनकी रूहें) उनकी नींद में (खींच ली जाती हैं)

बस जिन के बारे में ख़ुदा मौत का हुक्म दे चुका है उनकी रूहों को रोक रखता है और बाक़ी (सोने वालों की रूहों) को फिर एक मुक़र्रर वक्त तक के वास्ते भेज देता है

जो लोग (ग़ौर) और फिक्र करते हैं उनके लिए (क़ुदरते ख़ुदा की) यक़ीनी बहुत सी निशानियाँ हैं  

43.

क्या उन लोगों ने ख़ुदा के सिवा (दूसरे) सिफारिशी बना रखे है

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि अगरचे वह लोग न कुछ एख़तेयार रखते हों न कुछ समझते हों

44.

(तो भी सिफारिशी बनाओगे) तुम कह दो कि सारी सिफारिश तो ख़ुदा के लिए ख़ास है-

सारे आसमान व ज़मीन की हुकूमत उसी के लिए ख़ास है,

फिर तुम लोगों को उसकी तरफ लौट कर जाना है  

45.

और जब सिर्फ अल्लाह का ज़िक्र किया जाता है तो जो लोग आख़ेरत पर ईमान नहीं रखते उनके दिल मुतनफ़िफ़र हो जाते हैं

और जब ख़ुदा के सिवा और (माबूदों) का ज़िक्र किया जाता है तो बस फौरन उनकी बाछें खिल जाती हैं

46.

( रसूल) तुम कह दो कि ऐ ख़ुदा (ऐ) सारे आसमान और ज़मीन पैदा करने वाले, ज़ाहिर व बातिन के जानने वाले

हक़ बातों में तेरे बन्दे आपस में झगड़ रहे हैं तू ही उनके दरमियान फैसला कर देगा

47.

और अगर नाफरमानों के पास रूए ज़मीन की सारी काएनात मिल जाएग बल्कि उनके साथ उतनी ही और भी हो तो क़यामत के दिन ये लोग यक़ीनन सख्त अज़ाब का फ़िदया दे निकलें (और अपना छुटकारा कराना चाहें)

और (उस वक्त) उनके सामने ख़ुदा की तरफ से वह बात पेश आएगी जिसका उन्हें वहम व गुमान भी न था

48.

और जो बदकिरदारियाँ उन लोगों ने की थीं (वह सब) उनके सामने खुल जाएँगीं

और जिस (अज़ाब) पर यह लोग क़हक़हे लगाते थे वह उन्हें घेरेगा

49.

इन्सान को तो जब कोई बुराई छू गयी बस वह लगा हमसे दुआएँ माँगने,

फिर जब हम उसे अपनी तरफ़ से कोई नेअमत अता करते हैं तो कहने लगता है कि ये तो सिर्फ (मेरे) इल्म के ज़ोर से मुझे दिया गया है

(ये ग़लती है) बल्कि ये तो एक आज़माइश है

मगर उन में के अक्सर नहीं जानते हैं  

50.

जो लोग उनसे पहले थे वह भी ऐसी बातें बका करते थे

फिर (जब हमारा अज़ाब आया) तो उनकी कारस्तानियाँ उनके कुछ भी काम न आई

51.

ग़रज़ उनके आमाल के बुरे नतीजे उन्हें भुगतने पड़े

और उन (कुफ्फ़ारे मक्का) में से जिन लोगों ने नाफरमानियाँ की हैं उन्हें भी अपने अपने आमाल की सज़ाएँ भुगतनी पड़ेंगी

और ये लोग (ख़ुदा को) आजिज़ नहीं कर सकते

52.

क्या उन लोगों को इतनी बात भी मालूम नहीं कि ख़ुदा ही जिसके लिए चाहता है रोज़ी फराख़ करता है और (जिसके लिए चाहता है) तंग करता है

इसमें शक नहीं कि क्या इसमें ईमानदार लोगों के (कुदरत की) बहुत सी निशानियाँ हैं

53.

( रसूल) तुम कह दो कि ऐ मेरे (ईमानदार) बन्दों जिन्होने (गुनाह करके) अपनी जानों पर ज्यादतियाँ की हैं तुम लोग ख़ुदा की रहमत से नाउम्मीद न होना

बेशक ख़ुदा (तुम्हारे) कुल गुनाहों को बख्श देगा

वह बेशक बड़ा बख्शने वाला मेहरबान है

54.

और अपने परवरदिगार की तरफ रूजू करो और उसी के फरमाबरदार बन जाओ (मगर) उस वक्त क़े क़ब्ल ही कि तुम पर जब अज़ाब आ नाज़िल हो

(और) फिर तुम्हारी मदद न की जा सके

55.

और जो जो अच्छी बातें तुम्हारे परवरदिगार की तरफ से तुम पर नाज़िल हई हैं उन पर चलो (मगर) उसके क़ब्ल कि तुम पर एक बारगी अज़ाब नाज़िल हो और तुमको उसकी ख़बर भी न हो

56.

(कहीं ऐसा न हो कि) तुममें से कोई शख्स कहने लगे कि हाए अफ़सोस मेरी इस कोताही पर जो मैने ख़ुदा (की बारगाह) का तक़र्रुब हासिल करने में की और मैं तो बस उन बातों पर हँसता ही रहा

57.

या ये कहने लगे कि अगर ख़ुदा मेरी हिदायत करता तो मैं ज़रूर परहेज़गारों में से होता

58.

या जब अज़ाब को (आते) देखें तो कहने लगे कि काश मुझे (दुनिया में) फिर दोबारा जाना मिले तो मैं नेकी कारों में हो जाऊँ

59.

उस वक्त ख़ुदा कहेगा (हाँ) हाँ तेरे पास मेरी आयतें पहुँची तो तूने उन्हें झुठलाया और शेख़ी कर बैठा और तू भी काफिरों में से था (अब तेरी एक न सुनी जाएगी)

60.

और जिन लोगों ने ख़ुदा पर झूठे बोहतान बाँधे - तुम क़यामत के दिन देखोगे उनके चेहरे सियाह होंगे

क्या गुरूर करने वालों का ठिकाना जहन्नुम में नहीं है

(ज़रूर है)

61.

और जो लोग परहेज़गार हैं ख़ुदा उन्हें उनकी कामयाबी (और सआदत) के सबब निजात देगा

कि उन्हें तकलीफ छुएगी भी नहीं और न यह लोग (किसी तरह) रंजीदा दिल होंगे

62.

ख़ुदा ही हर चीज़ का जानने वाला है

और वही हर चीज़ का निगेहबान है

63.

सारे आसमान व ज़मीन की कुन्जियाँ उसके पास है

और जो लोग उसकी आयतों से इन्कार कर बैठें वही घाटे में रहेगें

64.

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि नादानों भला तुम मुझसे ये कहते हो कि मैं ख़ुदा के सिवा किसी दूसरे की इबादत करूँ

65.

और (ऐ रसूल) तुम्हारी तरफ और उन (पैग़म्बरों) की तरफ जो तुमसे पहले हो चुके हैं यक़ीनन ये वही भेजी जा की हैकि

अगर (कहीं) शिर्क किया तो यक़ीनन तुम्हारे सारे अमल अकारत हो जाएँगे और तुम तो ज़रूर घाटे में आ जाओगे

66.

बल्कि तुम ख़ुदा ही कि इबादत करो और शुक्र गुज़ारों में हो

67.

और उन लोगों ने ख़ुदा की जैसी क़द्र दानी करनी चाहिए थी उसकी (कुछ भी) कद्र न की

हालाँकि (वह ऐसा क़ादिर है कि) क़यामत के दिन सारी ज़मीन (गोया) उसकी मुट्ठी में होगी और सारे आसमान उसके दाहिने हाथ में लिपटे हुए हैं

जिसे ये लोग उसका शरीक बनाते हैं वह उससे पाकीज़ा और बरतर है

68.

और जब (पहली बार) सूर फँका जाएगा तो जो लोग आसमानों में हैं और जो लोग ज़मीन में हैं (मौत से) बेहोश होकर गिर पड़ेंगें) मगर (हाँ) जिस को ख़ुदा चाहे वह अलबत्ता बच जाएगा

फिर जब दोबारा सूर फूँका जाएगा तो फौरन सब के सब खड़े हो कर देखने लगेंगें

69.

और ज़मीन अपने परवरदिगार के नूर से जगमगा उठेगी

और (आमाल की) किताब (लोगों के सामने) रख दी जाएगी और पैग़म्बर और गवाह ला हाज़िर किए जाएँगे

और उनमें इन्साफ के साथ फैसला कर दिया जाएगा और उन पर (ज़र्रा बराबर) ज़ुल्म नहीं किया जाएगा

70.

और जिस शख्स ने जैसा किया हो उसे उसका पूरा पूरा बदला मिल जाएगा,

और जो कुछ ये लोग करते हैं वह उससे ख़ूब वाक़िफ है

71.

और जो लोग काफिर थे उनके ग़ोल के ग़ोल जहन्नुम की तरफ हॅकाए जाएँगे

और यहाँ तक की जब जहन्नुम के पास पहुँचेगें तो उसके दरवाज़े खोल दिए जाएगें

और उसके दरोग़ा उनसे पूछेंगे कि क्या तुम लोगों में के पैग़म्बर तुम्हारे पास नहीं आए थे जो तुमको तुम्हारे परवरदिगार की आयतें पढ़कर सुनाते और तुमको इस रोज़ (बद) के पेश आने से डराते

वह लोग जवाब देगें कि हाँ (आए तो थे) मगर (हमने न माना)

और अज़ाब का हुक्म काफिरों के बारे में पूरा हो कर रहेगा

72.

(तब उनसे) कहा जाएगा कि जहन्नुम के दरवाज़ों में धँसो और हमेशा इसी में रहो

ग़रज़ तकब्बुर करने वाले का (भी) क्या बुरा ठिकाना है

73.

और जो लोग अपने परवरदिगार से डरते थे वह गिर्दो गिर्दा (गिरोह गिरोह) बेहिश्त की तरफ़ (एजाज़ व इकराम से) बुलाए जाएगें

यहाँ तक कि जब उसके पास पहुँचेगें और बेहिश्त के दरवाज़े खोल दिये जाएँगें

और उसके निगेहबान उन से कहेंगें सलाम अलैकुम तुम अच्छे रहे,

तुम बेहिश्त में हमेशा के लिए दाख़िल हो जाओ

74.

और ये लोग कहेंगें ख़ुदा का शुक्र जिसने अपना वायदा हमसे सच्चा कर दिखाया

और हमें (बेहिश्त की) सरज़मीन का मालिक बनाया कि हम बेहिश्त में जहाँ चाहें रहें

तो नेक चलन वालों की भी क्या ख़ूब (खरी) मज़दूरी है

75.

और (उस दिन) फरिश्तों को देखोगे कि अर्श के गिर्दा गिर्द घेरे हुए डटे होंगे और अपने परवरदिगार की तारीफ की (तसबीह) कर रहे होंगे

और लोगों के दरमियान ठीक फैसला कर दिया जाएगा

और (हर तरफ से यही) सदा बुलन्द होगी अल्हमदो लिल्लाहे रब्बिल आलेमीन

*********

Copy Rights:

Zahid Javed Rana, Abid Javed Rana, Lahore, Pakistan

Visits wef 2016