कुरान हाकिम (हिंदी अनुवाद)

Surah Al Hashr

Previous         Index         Next

 

1.

जो चीज़ आसमानों में है और जो चीज़ ज़मीन में है (सब) ख़ुदा की तस्बीह करती हैं

और वही ग़ालिब हिकमत वाला है  

2.

वही तो है जिसने कुफ्फ़ार अहले किताब (बनी नुजैर) को पहले हश्र (ज़िलाए वतन) में उनके घरों से निकाल बाहर किया

(मुसलमानों) तुमको तो ये वहम भी न था कि वह निकल जाएँगे

और वह लोग ये समझे हुये थे कि उनके क़िले उनको ख़ुदा (के अज़ाब) से बचा लेंगे मगर जहाँ से उनको ख्याल भी न था ख़ुदा ने उनको आ लिया

और उनके दिलों में (मुसलमानों) को रौब डाल दिया

कि वह लोग ख़ुद अपने हाथों से और मोमिनीन के हाथों से अपने घरों को उजाड़ने लगे

तो ऐ ऑंख वालों इबरत हासिल करो

3.

और ख़ुदा ने उनकी किसमत में ज़िला वतनी न लिखा होता तो उन पर दुनिया में भी (दूसरी तरह) अज़ाब करता

और आख़ेरत में तो उन पर जहन्नुम का अज़ाब है ही

4.

ये इसलिए कि उन लोगों ने ख़ुदा और उसके रसूल की मुख़ालेफ़त की

और जिसने ख़ुदा की मुख़ालेफ़त की तो (याद रहे कि) ख़ुदा बड़ा सख्त अज़ाब देने वाला है

5.

(मोमिनों) खजूर का दरख्त जो तुमने काट डाला या जूँ का तँ से उनकी जड़ों पर खड़ा रहने दिया तो ख़ुदा ही के हुक्म से

और मतलब ये था कि वह नाफरमानों को रूसवा करे

6.

(तो) जो माल ख़ुदा ने अपने रसूल को उन लोगों से बे लड़े दिलवा दिया उसमें तुम्हार हक़ नहीं क्योंकि तुमने उसके लिए कुछ दौड़ धूप तो की ही नहीं,

न घोड़ों से न ऊँटों से, मगर ख़ुदा अपने पैग़म्बरों को जिस पर चाहता है ग़लबा अता फरमाता है

और ख़ुदा हर चीज़ पर क़ादिर है

7.

तो जो माल ख़ुदा ने अपने रसूल को देहात वालों से बे लड़े दिलवाया है वह ख़ास ख़ुदा और उसके रसूल

और (रसूल के) क़राबतदारों और यतीमों और मोहताजों और परदेसियों का है

ताकि जो लोग तुममें से दौलतमन्द हैं हिर फिर कर दौलत उन्हीं में न रहे,

हाँ जो तुमको रसूल दें दें वह ले लिया करो और जिससे मना करें उससे बाज़ रहो

और ख़ुदा से डरते रहो

बेशक ख़ुदा सख्त अज़ाब देने वाला है

8.

(इस माल में) उन मुफलिस मुहाजिरों का हिस्सा भी है जो अपने घरों से और मालों से निकाले (और अलग किए) गए

(और) ख़ुदा के फ़ज़ल व ख़ुशनूदी के तलबगार हैं और ख़ुदा की और उसके रसूल की मदद करते हैं

यही लोग सच्चे ईमानदार हैं और (उनका भी हिस्सा है)

9.

जो लोग मोहाजेरीन से पहले (हिजरत के) घर (मदीना) में मुक़ीम हैं और ईमान में (मुसतक़िल) रहे

और जो लोग हिजरत करके उनके पास आए उनसे मोहब्बत करते हैं

और जो कुछ उनको मिला उसके लिए अपने दिलों में कुछ ग़रज़ नहीं पाते

और अगरचे अपने ऊपर तंगी ही क्यों न हो दूसरों को अपने नफ्स पर तरजीह देते हैं

और जो शख़्श अपने नफ्स की हिर्स से बचा लिया गया तो ऐसे ही लोग अपनी दिली मुरादें पाएँगे

10.

और उनका भी हिस्सा है और जो लोग उन (मोहाजेरीन) के बाद आए (और) दुआ करते हैं कि

परवरदिगारा हमारी और उन लोगों की जो हमसे पहले ईमान ला चुके मग़फेरत कर

और मोमिनों की तरफ से हमारे दिलों में किसी तरह का कीना न आने दे

परवरदिगार बेशक तू बड़ा शफीक़ निहायत रहम वाला है

11.

क्या तुमने उन मुनाफ़िकों की हालत पर नज़र नहीं की जो अपने काफ़िर भाइयों अहले किताब से कहा करते हैं कि

अगर कहीं तुम (घरों से) निकाले गए तो यक़ीन जानों कि हम भी तुम्हारे साथ (ज़रूर) निकल खड़े होंगे

और तुम्हारे बारे में कभी किसी की इताअत न करेंगे

और अगर तुमसे लड़ाई होगी तो ज़रूर तुम्हारी मदद करेंगे,

मगर ख़ुदा बयान किए देता है कि ये लोग यक़ीनन झूठे हैं

12.

अगर कुफ्फ़ार निकाले भी जाएँ तो ये मुनाफेक़ीन उनके साथ न निकलेंगे

और अगर उनसे लड़ाई हुई तो उनकी मदद भी न करेंगे

और यक़ीनन करेंगे भी तो पीठ फेर कर भाग जाएँगे  

13.

फिर उनको कहीं से कुमक भी न मिलेगी (मोमिनों) तुम्हारी हैबत उनके दिलों में ख़ुदा से भी बढ़कर है,

ये इस वजह से कि ये लोग समझ नहीं रखते

14.

ये सब के सब मिलकर भी तुमसे नहीं लड़ सकते, मगर हर तरफ से महफूज़ बस्तियों में या (शहर पनाह की) दीवारों की आड़ में

इनकी आपस में तो बड़ी धाक है

कि तुम ख्याल करोगे कि सब के सब (एक जान) हैं मगर उनके दिल एक दूसरे से फटे हुए हैं

ये इस वजह से कि ये लोग बेअक्ल हैं

15.

उनका हाल उन लोगों का सा है जो उनसे कुछ ही पेशतर अपने कामों की सज़ा का मज़ा चख चुके हैं

और उनके लिए दर्दनाक अज़ाब है

16.

(मुनाफ़िकों) की मिसाल शैतान की सी है कि इन्सान से कहता रहा कि काफ़िर हो जाओ,

फिर जब वह काफ़िर हो गया तो कहने लगा मैं तुमसे बेज़ार हूँ

मैं सारे जहाँ के परवरदिगार से डरता हूँ

17.

तो दोनों का नतीजा ये हुआ कि दोनों दोज़ख़ में (डाले) जाएँगे और उसमें हमेशा रहेंगे

और यही तमाम ज़ालिमों की सज़ा है

18.

ईमानदारों ख़ुदा से डरो,

और हर शख़्श को ग़ौर करना चाहिए कि कल क़यामत के वास्ते उसने पहले से क्या भेजा है

और ख़ुदा ही से डरते रहो

बेशक जो कुछ तुम करते हो ख़ुदा उससे बाख़बर है

19.

और उन लोगों के जैसे न हो जाओ जो ख़ुदा को भुला बैठे तो ख़ुदा ने उन्हें ऐसा कर दिया कि वह अपने आपको भूल गए

यही लोग तो बद किरदार हैं

20.

जहन्नुमी और जन्नती किसी तरह बराबर नहीं हो सकते

जन्नती लोग ही तो कामयाबी हासिल करने वाले हैं

21.

अगर हम इस क़ुरान को किसी पहाड़ पर (भी) नाज़िल करते तो तुम उसको देखते कि ख़ुदा के डर से झुका और फटा जाता है

ये मिसालें हम लोगों (के समझाने) के लिए बयान करते हैं ताकि वह ग़ौर करें

22.

वही ख़ुदा है जिसके सिवा कोई माबूद नहीं,

पोशीदा और ज़ाहिर का जानने वाला

वही बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है

23.

वही वह ख़ुदा है जिसके सिवा कोई क़ाबिले इबादत नहीं

(हक़ीक़ी) बादशाह, पाक ज़ात (हर ऐब से) बरी अमन देने वाला निगेहबान, ग़ालिब ज़बरदस्त बड़ाई वाला

ये लोग जिसको (उसका) शरीक ठहराते हैं उससे पाक है

24.

वही ख़ुदा (तमाम चीज़ों का) ख़ालिक मुजिद सूरतों का बनाने वाला

उसी के अच्छे अच्छे नाम हैं

जो चीज़े सारे आसमान व ज़मीन में हैं सब उसी की तसबीह करती हैं,

और वही ग़ालिब हिकमत वाला है

*********

Copy Rights:

Zahid Javed Rana, Abid Javed Rana, Lahore, Pakistan

Visits wef 2016